NDTV Khabar

असम में बाढ़ की वजह से तीन और की मौत, कई इलाकों में सुधरे हालात

प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि अभी  भी राज्य के 5 जिलों में 3.67 लाख से अधिक लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
असम में बाढ़ की वजह से तीन और की मौत, कई इलाकों में सुधरे हालात

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. असम के पांच जिलों में सबसे ज्यादा लोग प्रभावित
  2. कई इलाकों में बचाव में उतरी सेना
  3. बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या 24 पहुंची
नई दिल्ली: असम के कुछ इलाकों में बाढ़ का कहर जारी है. स्थानीय प्रशासन के मुताबिक शुक्रवार को बाढ़ की वजह से तीन और लोगों की मौत की खबर है. इन तीन मौतों की वजह से बाढ़ में मरने वाले कुल लोगों की संख्या अब 24 हो गई है. असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएम) ने यह जानकारी दी. प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि अभी  भी राज्य के 5 जिलों में 3.67 लाख से अधिक लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं. एएसडीएम सूत्रों के अनुसार पिछले 24 घंटे में तीन व्यक्तियों की बाढ़जनित घटनाओं में जान चली गयी है.

यह भी पढ़ें: बाढ़ से पूर्वोत्तर भारत में अब तक 22 लोगों की मौत, मणिपुर ने केंद्र से मांगी मदद 

कच्छार जिले के सदर और काटिगोरा में एक एक व्यक्ति जबकि करीमगंज जिले के नीलामबाजार में एक व्यक्ति की मौत हुई है. प्राधिकारण के मुताबिक इस साल बाढ़ के पहले दौर इसी के साथ इसी के साथ मरने वालों की संख्या 24 हो गयी है. उनमें वे तीन लोग भी शामिल हैं जो इस साल भूस्खलन के चलते मर गये थे. धेमाजी , होजाई , कच्छार , करीमगंज और हैलकांडी जिलों में 3.67 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं. सबसे अधिक करीमजगंज जिला प्रभावित है जहां 1.62 लोगों को बाढ़ की विभीषिका झेलनी पड़ी है.

यह भी पढ़ें: उत्तर और पूर्वोत्तर भारत में भारी बारिश की चेतावनी, असम में बाढ़ से पांच की मौत

गौरतलब है कि असम बीते कुछ दिनों से बाढ़ की मार झेल रहा है. कई इलाकों में पानी घुसने के बाद मदद के लिए सेना और एनडीआरएफ की टीमों को उतारना पड़ा था. सेना ने कई इलाकों से हजारों की संख्या में प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है.

टिप्पणियां
VIDEO: पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ का कहर.


हालांकि राज्य सरकार के अनुसार बीते कुछ दिनों में पानी के स्तर में गिरावट आई है लेकिन रुक रुक कर हो रही बारिश की वजह से ज्यादातर इलाकों में लोग अभी भी फंसे हुए हैं. (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement