पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 वर्ष की उम्र में निधन

पूर्व राष्ट्रपति (Former President) प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. उनके बेटे अभ‍िजीत मुखर्जी (Abhijit Mukherjee) ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी.

नई दिल्ली:

पूर्व राष्ट्रपति (Former President) प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) का 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. उनके बेटे अभ‍िजीत मुखर्जी (Abhijit Mukherjee) ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. सेना के अनुसंधान एवं रेफरल अस्पताल में भर्ती मुखर्जी की हालत सोमवार को और बिगड़ गई थी. अस्पताल ने बताया था कि मुखर्जी का स्वास्थ्य सोमवार को और खराब हो गया गिरावट दर्ज की गई क्योंकि उन्हें फेफड़े में संक्रमण की वजह से सेप्टिक शॉक लगा है. पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को यहां अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी. बाद में उनके फेफड़ों में भी संक्रमण हो गया था. अस्पताल में उनका इलाज विशेषज्ञों की एक टीम कर रही थी.

एक स्वतंत्रता सेनानी के बेटे प्रणब मुखर्जी का राष्ट्रपति बनने तक का सफर

भारत के चहेते राष्ट्रपतियों में शुमार 84 साल के प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) दिल्ली में आर्मी हॉस्पिटल रिसर्च एंड रेफरल में भर्ती थे. उनकी ब्रेन सर्जरी हुई थी, जिसके बाद उनकी हालत नाजुक होने के चलते उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. उनके ब्रेन में एक थक्का (Clot) बन गया था, जिसको निकालने के लिए ऑपरेशन किया गया था. 

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभ‍िजीत मुखर्जी ने ट्वीट करके लिखा, ''भारी मन के साथ, आपको यह सूचित करना है कि मेरे पिता श्री प्रणव मुखर्जी का अभी आरआर अस्पताल के डॉक्टरों के सर्वोत्तम प्रयासों और पूरे भारत में लोगों से मिली दुआओं और प्रार्थनाओं के बावजूद निधन हो गया है! मैं आप सभी को धन्यवाद देता हूं.''

Newsbeep

पूर्व राष्ट्रपति को PM मोदी की श्रद्धांजलि, बोले- पहले दिन से प्रणब मुखर्जी का मार्गदर्शन पाकर धन्य हुआ

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि भारत रत्न प्रणब मुखर्जी के जाने पर पूरे देश में शोक की लहर है. नेताओं से लेकर आम जनता उन्हें श्रद्धांजलि दे रही है. राष्ट्रपति को महामहिम कहे जाने की रीति से ऐतराज करने वाले प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के राष्ट्रपति थे. उनका राजनीतिक जीवन 40 सालों से भी ज्यादा लंबा रहा है. कांग्रेस पार्टी में रहते हुए उन्होंने विदेश से लेकर रक्षा, वित्त और वाणिज्य मंत्री तक की भूमिका निभाई.