NDTV Khabar

भगोड़ा मेहुल चौकसी ने छोड़ी भारतीय नागरिकता, गृहमंत्री राजनाथ सिंह बोले- वक्त लग सकता है पर वापस लाएंगे

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने हालही में मेहुल चोकसी की कंपनी गीतांजलि समूह की थाईलैंड में स्थित 13 करोड़ रुपये कीमत की एक फैक्टरी को कुर्क कर लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. पीएनबी घोटाले का आरोपी है मेहुल चौकसी
  2. 2018 में ली थी एंटीगुआ की नागरिकता
  3. सरेंडर किया भारतीय पासपोर्ट
नई दिल्ली:

पीएनबी घोटाला (PNB Scam) के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) ने प्रत्यर्पण से बचने की कोशिश की है. मेहुल चौकसी ने अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ दी है. इसके साथ ही उसने भारतीय पासपोर्ट भी सरेंडर कर दिया. चौकसी के इस कदम को प्रत्यर्पण से बचने की एक कोशिश के रूप में देखा जा रहा है. इसके बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ वक्त लग सकता है लेकिन हम ऐसे भगोड़ों को वापस लाएंगे. राजनाथ सिंह ने कहा, "हमारी सरकार ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी पारित किया है... जो देश छोड़कर भाग गए हैं, उन्हें वापस लाया जाएगा... इसमें कुछ वक्त लग सकता है, लेकिन उन सभी को वापस लाया जाएगा..."

चौकसी पीएनबी घोटाले में वांछित है. चौकसी ने एंटीगुआ (Antigua) में भारतीय उच्चायोग को अपने पासपोर्ट के साथ ही 177 डॉलर का ड्राफ्ट भी सौंपा है. अधिकारियों के मुताबिक उसने अपना नया पता 'जॉली हार्बर मार्क्स एंटीगुआ' बताया है.


बता दें, भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि मेहुल चौकसी दो देशों की नागरिकता नहीं रख सकता. मेहुल चौकसी को साल 2018 में एंटीगुआ और बारबूडा की नागरिकता दी गई थी और उसने पिछले साल 15 जनवरी को उस देश के प्रति निष्ठा की शपथ ली थी. 

मेहुल चोकसी ने कोर्ट से कहा- 41 घंटे सफर करके भारत नहीं आ सकता, ED पर गुमराह करने का आरोप भी लगाया

बता दें, पिछले साल के अंत में मेहुल चोकसी ने मुंबई की एक कोर्ट से कहा था कि वह 41 घंटे की यात्रा कर भारत नहीं आ सकता. लोन धोखाखड़ी मामले वांछित चोकसी ने बताया कि उसकी खराब सेहत की वजह से वह एंटीगुआ से भारत नहीं आ सकता. कोर्ट में लिखित में दिए गए जवाब में मेहुल चोकसी ने प्रवर्तन निदेशालय पर आरोप लगाया था कि उसकी स्वास्थ्य की जानकारी न देकर कोर्ट को गुमराह किया गया है.

कांग्रेस का आरोप, मेहुल चौकसी ने अरुण जेटली की बेटी-दामाद की फर्म को किया था हायर, पेश किये दस्तावेज

इसके साथ ही उसने कहा था कि वह अपना बकाया चुकाने के लिए बैंकों के संपर्क में है. साथ ही कहा था कि वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जांच के साथ जुड़ने के लिए तैयार है. वहीं प्रवर्तन निदेशालय ने कोर्ट से कहा था कि मेहुल चोकसी को भगोड़ आर्थिक अपरोधी घोषित किया जाए और उसकी संपत्ति जब्त करने के आदेश दिए जाएं.

ED ने भगोड़े नीरव और उसके मामा की 218 करोड़ की संपत्ति की जब्त, ट्रंप टॉवर में भी खरीदा था फ्लैट

टिप्पणियां

इसे बाद इस साल जनवरी के पहले सप्ताह में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने चोकसी की कंपनी गीतांजलि समूह की थाईलैंड में स्थित 13 करोड़ रुपए कीमत की एक फैक्टरी को कुर्क कर लिया था. यह कुर्की दो अरब डॉलर के कथित पीएनबी धोखाधड़ी मामले में की गई थी. एजेंसी ने कहा था कि उसने धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत एब्बेक्रेस्ट (थाईलैंड) लिमिटेड के स्वामित्व वाली फैक्टरी की कुर्की के लिए एक अस्थायी आदेश जारी किया था. यह कंपनी गीताजंलि समूह की एक कंपनी है. 

VIDEO: क्या आप मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण में भारत की मदद करेंगे, तो जानें क्या था एंटिगुआ के विदेश मंत्री का जवाब



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement