Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

जमीन से 50 फीट ऊपर था विमान, पायलट को नहीं दिखा रन-वे और फिर...

'द डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन' (DGCA) ने लापरवाही बरतने के मामले में गो एयर के दो पायलटों को सस्पेंड कर दिया है. मामला पिछले साल 11 नवंबर का है. बेंगलुरु एयरपोर्ट पर एक बड़ा हादसा टल गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जमीन से 50 फीट ऊपर था विमान, पायलट को नहीं दिखा रन-वे और फिर...

उस समय फ्लाइट में 146 यात्री सवार थे. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 11 नवंबर, 2019 की घटना
  2. गो एयर के पायलट निलंबित
  3. 3 और 6 महीने के लिए सस्पेंड
बेंगलुरु:

'द डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन' (DGCA) ने लापरवाही बरतने के मामले में गो एयर के दो पायलटों को सस्पेंड कर दिया है. मामला पिछले साल 11 नवंबर का है. बेंगलुरु एयरपोर्ट पर एक बड़ा हादसा टल गया था. गो एयर की फ्लाइट A-320 जोकि नागपुर से बेंगलुरु पहुंची थी, में 146 यात्री सवार थे. फ्लाइट की लैंडिंग के समय कोहरे की वजह से पायलट को रन-वे दिखाई नहीं दिया. उस समय विमान जमीन से 50 फीट ऊपर था. पायलट ने विमान को बाईं ओर मोड़ दिया, जहां जमीन पर घास थी. जमीन छूते ही पायलट ने एक बार फिर फ्लाइट को टेक-ऑफ कर लिया.

DGCA ने इस बारे में कहा, गो एयर के पायलट प्लेन की लैंडिंग करते समय 50 फीट ऊपर थे कि कोहरे की वजह से दृश्यता नहीं होने के चलते उन्होंने गलत जगह पर लैंड किया था. इस मामले में को-पायलट ने पायलट को अलर्ट नहीं किया और लैंडिंग से पहले इससे जुड़े सही दिशा-निर्देश नहीं दिए. कोहरे की वजह से उन्हें रन-वे दिखाई नहीं दिया और उस समय वह 50 फीट ऊपर थे.

अमेरिका ने अपनी एयरलाइंस और पायलट को दी चेतावनी- पाकिस्तान एयरस्पेस का इस्तेमाल करने से बचें


पायलट ने प्लेन को जमीन पर घास वाले हिस्से में लैंड किया और फिर टेक-ऑफ कर लिया. इस घटना से जुड़ी तस्वीरें और वीडियो भी सामने आए थे. घटना में किसी भी यात्री को नुकसान नहीं पहुंचा था. DGCA ने दोनों पायलटों को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. DGCA ने जांच के बाद बताया कि दोनों पायलटों ने अपनी गलती स्वीकार कर ली थी. जिसके बाद पायलट को 6 महीने और को-पायलट को तीन महीने के लिए निलंबित किया गया है.

टिप्पणियां

VIDEO: अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 'उड़ान' स्कीम की शुरुआत, सोमवार को पहली फ्लाइट ने भरी उड़ान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली तो बस एक नई प्रयोगशाला है

Advertisement