NDTV Khabar

स्कूलों में सुरक्षा उपायों की निगरानी के लिए समिति बनाएगी सरकार

केंद्र सरकार ने गुड़गांव के एक स्कूल में छात्र की हत्या और दिल्ली में एक छात्रा से बलात्कार के बाद देशभर के विद्यालयों में सुरक्षा मानदंडों के क्रियान्वयन की निगरानी के लिए एक अंतर-मंत्रालयी समिति बनाने का फैसला किया है.

81 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
स्कूलों में सुरक्षा उपायों की निगरानी के लिए समिति बनाएगी सरकार

महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी.

खास बातें

  1. गुड़गांव के स्कूल में छात्र की हत्या के बाद अंतर-मंत्रालयी समिति पर विचार
  2. समिति स्कूलों में सुरक्षा मानदंडों के क्रियान्यवयन की निगरानी करेगी
  3. स्कूलों में बच्चों के खिलाफ बढ़ते अपराध के बीच यह उच्च स्तरीय बैठक हुई
नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने गुड़गांव के एक स्कूल में छात्र की हत्या और दिल्ली में एक छात्रा से बलात्कार के बाद देशभर के विद्यालयों में सुरक्षा मानदंडों के क्रियान्वयन की निगरानी के लिए एक अंतर-मंत्रालयी समिति बनाने का फैसला किया है. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर और महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी के बीच एक बैठक के दौरान यह फैसला किया गया.

यह भी पढ़ें : 7 साल के बच्चे का शव रयान इंटरनेशनल स्कूल के टॉयलेट से मिला, गर्दन पर चाकू के निशान

बैठक में यह भी सुझाव आया कि यहां एक फिजियोथेरेपी छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद गठित निर्भया फंड का उपयोग विद्यालयों के सुरक्षा मानदंडों के लिए किया जाए. मेनका गांधी ने कहा, बैठक में विद्यालय सुरक्षा के वर्तमान मानदंडों की समीक्षा की गई और नए सुझावों पर चर्चा की गई. दिशा-निर्देशों के क्रियान्वयन और प्रगति की निगरानी के लिए छह सचिवों की एक समिति बनाई जाएगी. स्कूलों में बच्चों के खिलाफ बढ़ते अपराध के बीच यह उच्च स्तरीय बैठक हुई है. इन अपराधों से शिक्षण संस्थानों में सुरक्षा मानदंडों को लेकर बहस छिड़ गई थी.

यह भी पढ़ें : रयान इंटरनेशनल स्कूल में छात्र की हत्या के मामले में सीबीआई दायर करेगी चार्जशीट

VIDEO:स्कूलों में सुरक्षा के प्रावधान और कड़े करेगी सरकार


इस समिति में मानव संसाधन विकास विभाग, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, जनजातीय मंत्रालय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सचिव होंगे. करीब 50 मिनट तक चली बैठक में महिला ड्राइवर नियुक्त करने, स्कूलों में बाल उत्पीड़न के बारे में लघु फिल्में दिखाए जाने, बाल यौन अपराध संरक्षण कानून के तहत जागरूकता बूथ स्थापित करने जैसे विषयों पर चर्चा हुई. राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग, सीबीएसई, एनसीईआरटी और केंद्रीय विद्यालय संगठन के प्रतिनिधियों ने भी इसमें हिस्सा लिया. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement