NDTV Khabar

सोशल मीडिया : 'GST का मतलब है जटिल सर्विस स्ट्राइक, निशाना किसान व्यापारी और जनता'

वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी 1 जुलाई को पूरे देश में लागू हो गया है. कारोबारी से लेकर आम आदमी तक जीएसटी को समझने की कोशिश रहा है.

4126 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सोशल मीडिया : 'GST का मतलब है जटिल सर्विस स्ट्राइक, निशाना किसान व्यापारी और जनता'

वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी 1 जुलाई से पूरे देश में लागू हो गया है....

खास बातें

  1. वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी 1 जुलाई को पूरे देश में लागू
  2. कारोबारी से लेकर आम आदमी जीएसटी को समझने में जुटे
  3. पिछले दो दिन से सोशल मीडिया पर टॉप ट्रेंड पर है जीएसटी
नई दिल्ली: वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी 1 जुलाई से पूरे देश में लागू हो गया है. इसे लेकर उत्सुकता बरकरार है. कारोबारी से लेकर आम आदमी तक जीएसटी को समझने की कोशिश रहा है. इससे जुड़ी हर जानकारी को जुटाना चाहता है. पिछले दो दिन से सोशल मीडिया पर टॉप ट्रेंड पर है. हर कोई एक दूसरे से बस एक ही सवाल पूछ रहा है कि आखिर जीएसटी क्या है? सोशल मीडिया पर भी जीएसटी पर मजेदार जोक्स और मेमेस शेयर किए जा रहे हैं. जीएसटी के चुटीले फुल फॉर्म बनाए जा रहे हैं. तो आइए आप भी पढ़े जीएसटी से जुड़े कुछ मजेदार जोक्स :

एक यूजर हितेश भाम्बी ने तो जीएसटी का फुलफॉर्म और ही अलग अंदाज में बताया. हितेश के मुताबिक जीएसटी का फुल फॉर्म है : जटिल सर्जिकल स्ट्राइक.  निशाना किसान व्यापारी, नेता.
 
एक यूजर अश्विनी दुबे ने तो यहां तक लिख दिया कि जीएसटी से संबंधित जोक्स न भेजें. मोबाइल की बैटरी अपने आप 28% डाउन हो जाती है.
 
जीएसटी का फुल फॉर्म महेश कुमार ने तो बिल्कुल ही अलग अंदाज में बताया. उन्होंने लिखा GST का मतलब है गुडनाइट, स्वीटड्रीम और टेककेयर.
 
इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर लोगों ने जैसे ही जीएसटी लागू हुआ होटल, रेस्त्रां आदि के बिल शेयर किए. फेसबुक पर एक यूजर ने लिखा, बहुत से लोग कहते हैं कि नोटबंदी बिना नोट छपवाए लागू की. जीएसटी बिना सॉफ्टवेयर तैयार किए हुई लागू किया गया. अब ये बुलेट ट्रेन भी बिना पटरी बिछाई दौड़ दी जाएगी.. भला करे भगवान.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement