NDTV Khabar

Monsoon Updates: मुंबई में बारिश का कहर जारी, दिल्ली-एनसीआर के लोगों को अभी गर्मी से राहत नहीं, जानें आपके राज्य में कब होगी वर्षा

Monsoon Updates: पिछले दो दिनों की भारी बारिश से आर्थिक राजधानी मुंबई के ठहर जाने के साथ ही सोमवार को देश के कई हिस्सों में बारिश हुई, जबकि उत्तरी मैदानी क्षेत्र भयंकर गर्मी की चपेट में रहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Monsoon Updates: मुंबई में बारिश का कहर जारी, दिल्ली-एनसीआर के लोगों को अभी गर्मी से राहत नहीं, जानें आपके राज्य में कब होगी वर्षा

Monsoon Updates: मुंबई में बारिश से लोग बेहाल

खास बातें

  1. मुंबई में बारिश का कहर जारी
  2. दिल्ली-एनसीआर के लोगों को अभी गर्मी से राहत नहीं
  3. जम्मू में लू तपिश और महाराष्ट्र में भारी बारिश के आसार
नई दिल्ली:

पिछले दो दिनों की भारी बारिश से आर्थिक राजधानी मुंबई के ठहर जाने के साथ ही सोमवार को देश के कई हिस्सों में  बारिश  हुई, जबकि उत्तरी मैदानी क्षेत्र भयंकर गर्मी की चपेट में रहा. इस दौरान दिल्ली भीषण गर्मी की गिरफ्त में रही. शहर के कुछ हिस्सों में पारा 43 डिग्री तक पहुंच गया. मौसम विज्ञानियों के अनुसार मंगलवार से यहां बारिश शुरू होने की संभावना है. दिल्ली के लिए आधिकारिक मौसम आंकड़े प्रदान करने वाली सफदरजंग वेधशाला ने अधिकतम तापमान 41.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जो सामान्य से पांच डिग्री अधिक है. न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री ऊपर 30.6 डिग्री सेल्सियस रहा. आर्द्रता 37 और 59 प्रतिशत की बीच रही.    नयी दिल्ली में 26 सालों में दूसरी बार जून बहुत अधिक गर्म रहा और महज 6.6 मिलीमीटर वर्षा हुई. दिल्ली जून में सबसे कम वर्षा वाला प्रदेश भी रहा. यहां सामान्य से 90 फीसद कम वर्षा हुई. औसतन शहर में जून में 64.1 मिलीमीटर वर्षा होती है. इस बार यहां बस 6.6 मिलीमीटर वर्षा हुई. शहर में 1993 में महज पांच मिलीमीटर वर्षा हुई थी.    

Mumbai Rains Live Updates: बारिश का कहर जारी, सार्वजनिक छुट्टी का ऐलान, बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज और दफ्तर



मुंबई में भारी बारिश से लोग परेशान
मुंबई में सोमवार सुबह भारी बारिश हुई और इसके बाद शहर में कई स्थानों पर पानी भर गया जिसकी वजह से ट्रैफिक जाम भी हुआ और ट्रेनों की आवाजाही पर भी असर पड़ा. नगरपालिका आयुक्त प्रवीण परदेशी ने बताया कि दो दिनों में 540 मिमी बारिश हुई जो पिछले एक दशक में दो दिन में हुई सबसे ज्यादा बारिश है. उन्होंने बाढ़ की स्थिति के पीछे जलवायु परिवर्तन और भौगोलिक घटना को जिम्मेदार ठहराया. मुंबई के महापौर विश्वनाथ महादेश्वर ने बताया कि कुछ इलाकों में जलभराव है लेकिन यह कहना गलत होगा कि भारी बारिश के बाद 'बाढ़' जैसी स्थिति है. मौसम विभाग ने आसपास के इलाकों ठाणे और पालघर में दो, चार और पांच जुलाई को बेहद भारी बारिश की आशंका जाहिर की है. मुंबई में कुछ स्थानों पर सोमवार और मंगलवार को भारी बारिश हो सकती है. निजी मौसम एजेंसी स्काईमेट ने बताया कि मुंबई में तीन जुलाई से पांच जुलाई के बीच बाढ़ का गंभीर खतरा है. 

दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में उमस
सोमवार को दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में गर्म और उमस भरा मौसम रहा. दिल्ली जहां भीषण गर्मी की गिरफ्त में रही, वहीं चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान 40.5 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से पांच डिग्री अधिक है. हरियाणा में अंबाला, भिवानी और हिसार में अधिकतम तामपान क्रमश: 40.2, 42.2 और 43 डिग्री सेल्सियस रहा. पंजाब में अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में अधिकतम तामपान क्रमश: 41.7, 39.2 और 40.5 डिग्री सेल्सियस रहा. ओड़िशा के आठ जिलों में अगले 24 घंटे के दौरान भारी वर्षा होने का अनुमान लगाया गया है. 

बारिश से बेहाल मायानगरी मुंबई, दो दिनों में ही 540 मिलीमीटर बारिश हुई, टूटा 10 साल का रिकॉर्ड

राजस्थान के कुछ इलाकों में बारिश से राहत
राजस्थान में पिछले 24 घंटे के दौरान एक दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई वहीं एक स्थान पर भारी बारिश हुई है. मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे के दौरान झालावाड़ जिले के बकानी में 10 सेंटीमीटर, बूंदी में 6 सेंटीमीटर, हिंडोली में 5 सेंटीमीटर, कोटा के रामगंजमंडी में 4 सेंटीमीटर, झालावाड के पचपहाड में 4 सेंटीमीटर, भीलवाडा के मांडलगढ में 4 सेंटीमीटर कोटा के दीगोद में 4 सेंटीमीटर, झालावाड के खानपुर में 4 सेंटीमीटर, भीलवाडा के जहाजपुर में 3 सेंटीमीटर, भीलवाडा में 3 सेंटीमीटर, टोंक के टोडारायसिंह में 3 सेंटीमीटर, झालरापाटन-डग में तीन तीन सेंटीमीटर, बांसवाडा के अरथूना में 3 सेंटीमीटर, जयपुर के कोटपूतली में 3 सेंटीमीटर, निवाई-सपोटरा-छबडा में 3-3 सेंटीमीटर और दौसा में 3 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई. वहीं, चूरू में आज सुबह से शाम तक बूंदाबांदी दर्ज की गई जबकि राज्य का पश्चिमी हिस्सा सूखा रहा. 

जम्मू में लू तपिश और महाराष्ट्र में भारी बारिश के आसार
जम्मू में पारा 41.8 डिग्री तक चला गया और लू के चलते लोग अपने घरों में ही कैद रहे. महाराष्ट्र में दो और तीन जुलाई को भारी से भारी बारिश की संभावना जताई गई है. कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र और विदर्भ में दक्षिण-पश्चिमी मानसून सक्रिय हो जाने के बीच मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि इन क्षेत्रों में अगले दो दिनों में कुछ स्थानों पर भारी से अत्यंत भारी बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि इसके साथ ही पुणे और आसपास के क्षेत्रों में दो और तीन जुलाई को हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. गौरतलब है कि मुंबई में रविवार से ही भारी बारिश हो रही है और दो दिन में यहां 540 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है. यह पिछले एक दशक में दो दिन की अवधि में हुई सर्वाधिक बारिश है.

Mumbai Weather: मुंबई में बारिश से जुड़े हादसों में 4 लोगों की मौत, अगले 48 घंटे में हो सकती है भारी बारिश

मेघालय में भारी बारिश
मेघालय में पिछले 36 घंटे से हो रही भारी वर्षा के चलते बीएसएफ के एक जवान और एक लड़की के बाढ़ में बह जाने की खबर है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. बारिश के कारण कई जगह भूस्खलन हुआ है, जिससे इस पूर्वोत्तर राज्य में कई जगह सड़कें टूट गई हैं. भारी बारिश के चलते जलाशयों का जलस्तर भी काफी बढ़ गया है. मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा ने जिला उपायुक्तों से प्रभावित लोगों को राहत और सहायता प्रदान करने के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा है. पूर्वी खासी हिल्स जिले के उमसोहियोंग गांव में स्कूल से लौट रही 11 वर्षीय एक बच्ची जल के तेज प्रवाह में बह गई. अधिकारियों के मुताबिक, पश्चिमी गारो हिल्स जिले में रविवार शाम बीएसएफ का एक जवान गनोल नदी के तेज बहाव में बह गया और उसका अभी कोई पता नहीं चला है. जवान को खोजने के लिए तलाशी अभियान शुरू किया गया है. खोजी टीम में बीएसएफ, राज्य पुलिस और जिला आपदा अधिकारियों को शामिल किया गया है. जवान तुरा के डोबासिपारा में तैनात था, जो 55वीं बटालियन के अपने साथियों के साथ पिकनिक मनाने गया था. जिला पुलिस अधीक्षक एम जी आर कुमार ने पीटीआई-भाषा को बताया कि आज सुबह तलाशी अभियान शुरू किया गया.

24 राज्यों में जून में बारिश हुई कम
मानसून की कमजोर गति के कारण खद्यान्न उत्पादन के लिहाज से महत्वपूर्ण पंजाब और हरियाणा सहित देश के 24 राज्यों में जून में कम बारिश दर्ज हुई. इससे देश के 250 जिलों में जलसंकट की चिंता बनी हुई है. जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने एक समारोह से इतर आईएएनएस से कहा, "अभी तक कम बारिश हुई है, अब बेहतर की उम्मीद करते हैं." अब सभी की निगाहें इंद्र देवता पर हैं. इस बीच मौसम की सूचना देने वाली निजी कंपनी स्काईमेट ने इस साल औसतन कम मानसून का अनुमान जताया है. स्काईमेट के निदेशक महेश पालावत ने कहा कि जुलाई और अगस्त में मानसून की गति धीमी रहेगी. हालांकि उनका कहना है कि इसका असर कृषि क्षेत्र पर नहीं पड़ेगा.

टिप्पणियां

VIDEO: मुंबई में बारिश ने तोड़ा 10 साल का रिकॉर्ड



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement