Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यहां खिलाड़ी बिजनेस की ओर जाता है और खेल छोड़ देता है: द ग्रेट खली

डब्ल्यूडब्ल्यूई के अंतर्राष्ट्रीय स्तर के रेसलर दिलीप सिंह राणा उर्फ द ग्रेट खली का कहना है कि यहां सरकार खेल और खिलाड़ियों पर बहुत कम ध्यान देती है.

यहां खिलाड़ी बिजनेस की ओर जाता है और खेल छोड़ देता है: द ग्रेट खली

दिलीप सिंह राणा उर्फ द ग्रेट खली ने WWE में भारत को पहचान दिलाई है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • हाथरस के दाऊजी महाराज के दंगल में पहुंचे द ग्रेट खली
  • खेल के लिए सरकारी सुविधाएं कम होने का अफसोस है खली को
  • खली अपने स्तर पर तैयार कर रहे हैं भारतीय पहलवान
हाथरस:

यहां ऐतिहासिक किला क्षेत्र में जुड़े मेला दाऊजी महाराज के दंगल में कुश्ती प्रेमियों को डब्ल्यूडब्ल्यूई के अंतर्राष्ट्रीय स्तर के रेसलर दिलीप सिंह राणा उर्फ द ग्रेट खली को देखने का मौका मिला. खली जब हाथ में गदा लिए दंगल के अखाड़े में आए तो कुश्ती प्रेमियों ने तालियों से उनका स्वागत किया.

पढ़ें: सलवार सूट में ही खली की शिष्या की पिटाई कर चुकी भारतीय लड़की अब WWE में कहर बरपाएगी

इस दौरान हुई पत्रकारों से बातचीत करते हुए खली ने बड़ी बेबाकी से स्वीकार किया कि रेसलर और खिलाड़ियों के लिए भारत में सुविधाओं की कमी है. उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से सुविधाओं की कमी के साथ-साथ यहां खिलाड़ियों की सोच का फर्क रहता है. यहां खिलाड़ी बिजनेस की ओर जाता है. नौकरी मिल जाती है तो नौकरी करता है और खेल को छोड़ देता है.
 
VIDEO: WWE में पहुंचा भारत का एक और रेसलर खली ने इस दौरान अपने करियर में हासिल की गई सफलताओं का उल्लेख करते हुए कहा कि वह अमेरिका से स्वदेश इसलिए आए हैं ताकि कई खली तैयार कर सकें. उन्होंने कहा कि लोग दिल्ली में घर बनाकर वापस अपने गांव नहीं लौटते हैं, लेकिन वे हॉलीवुड की मूवी, अमेरिका में घर और बिजनेस के बावजूद इस जुनून के साथ भारत वापस आए हैं, ताकि हजारों खली तैयार कर सकें. खली ने कहा कि इस काम के लिए सरकार ने न तो उन्हें जमीन दी है और न ही बिल्डिंग बनाकर दी है. यहां तक कि कोच के तौर पर फीस तक नहीं दी गयी है. खली अपने खर्च से यह सब कर रहे हैं.
 
 (इनपुट आईएएनएस से)