NDTV Khabar

आखिर BJP प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने क्‍यों कहा- आप राहुल गांधी हैं 'चाइनीज' गांधी नहीं

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर की धार्मिक यात्रा के लिए चीन जा चुके हैं. इस पर बीजेपी के प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने वार करते हुए कहा कि राहुल गांधी को चीन से बहुत प्‍यार है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आखिर BJP प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने क्‍यों कहा- आप राहुल गांधी हैं 'चाइनीज' गांधी नहीं

बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा

खास बातें

  1. आप हमेशा पड़ोसी देश के पक्ष में बात करते हैं
  2. राहुल गांधी को चीन से बहुत प्‍यार है
  3. राहुल गांधी जी चीन में कौन से पॉलिटिशियन से मिलने वाले है
नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर की धार्मिक यात्रा के लिए चीन जा चुके हैं. इस पर बीजेपी के प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने वार करते हुए कहा कि राहुल गांधी को चीन से बहुत प्‍यार है. उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी से हम पूछना चाहते हैं कि राहुल गांधी जी चीन में कौन से पॉलिटिशियन से मिलने वाले है और उनसे क्या डिस्कशन होने वाले है. बीजेपी प्रवक्‍ता ने कहा कि हम जानना चाहते हैं कि वह भारतीय प्रवक्‍ता की जगह चीनी प्रवक्ता की तरह व्‍यवहार क्‍यों करते हैं? उन्‍होंने कहा कि आप राहुल गांधी है 'चाइनीज' गांधी नहीं. यह क्या है कि आप हमेशा पड़ोसी देश के पक्ष में बात करते हैं.

शिवराज का 'बाहुबली अवतार' वाला वीडियो : देखें- कौन बना है कटप्पा-भल्लालदेव, सोनिया गांधी की क्या है भूमिका

बीजेपी प्रवक्‍ता ने कहा कि डोकलाम विवाद के समय राहुल गांधी ने रात के अंधेरे में परिवार सहित चीन के राजदूत मुलाकात की लेकिन भारत सरकार को विश्वास में नहीं लिया. पहले कांग्रेस पार्टी ने इस मुलाकात को नकारा लेकिन बाद में उन्हें स्वीकार करना पड़ा. उन्‍होंने कहा कि पहले कांग्रेस मीडिया की सभी खबरों को झूठा बताया लेकिन जब सच्‍चाई सामने आई तो कांग्रेस ने स्‍वीकार किया कि वह चीन के राजदूत से मिले थे. संबित पात्रा ने कहा कि जर्मनी में जब राहुल गांधी से डोकलाम को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। जब आपको जानकारी नहीं है तो आपने डोकलाम को 'धोखालाम' कैसे कहा?

राहुल गांधी के गढ़ अमेठी का ये गांव हो जाएगा पूरी तरह से डिजिटल, स्मृति ईरानी करेंगी उद्घाटन

टिप्पणियां
पार्टी सूत्रों का कहना है कि गांधी की यह धार्मिक यात्रा 12 दिनों की होगी. वह 12 सितंबर को स्वदेश के लिए रवाना होंगे. दरअसल, कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान अप्रैल महीने के आखिर में अचानक तकनीकी खराबी आने की वजह से गांधी का विमान कई हज़ार फुट नीचे आ गया था. इस घटना के कुछ दिनों बाद दिल्ली में आयोजित कांग्रेस की 'जन-आक्रोश रैली' में गांधी ने कहा था, ‘‘मैं दो-तीन दिन पहले कर्नाटक जा रहा था, मैं विमान में सवार था. विमान अचानक आठ हजार फुट नीचे आ गया. मैं अंदर से हिल गया और लगा कि अब गाड़ी गई. तभी मुझे कैलाश मानसरोवर की याद आई. अब मैं आप लोगों से 10 -15 दिन के लिए छुट्टी चाहता हूं ताकि कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जा सकूं.’’ उनकी इस घोषणा के बाद गांधी की धार्मिक यात्रा के कार्यक्रम को लेकर समय-समय पर अटकलें लगाई जाती रहीं. कांग्रेस ने कुछ महीने पहले यह आरोप लगाया था कि आवेदन देने के बाद भी केंद्र सरकार ने गांधी की यात्रा की इजाजत नहीं दी. इस पर जून में विदेश मंत्रालय ने कहा था कि राहुल गांधी की ओर से कोई आवेदन नहीं मिला.


VIDEO: राहुल गांधी ने कहा, राफेल बहुत ही क्लियर कट केस है 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement