25 साल बाद मॉनसून ने तोड़े कई रिकॉर्ड, 1994 के बाद पहली बार जमकर बरसे बादल

मौसम विभाग (IMD) ने कहा कि देश में 1994 के बाद इस मॉनसून में सबसे अधिक वर्षा दर्ज की गई. मौसम विभाग ने इसे 'सामान्य से अधिक' बताया.

25 साल बाद मॉनसून ने तोड़े कई रिकॉर्ड, 1994 के बाद पहली बार जमकर बरसे बादल

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

मौसम विभाग (IMD) ने कहा कि देश में 1994 के बाद इस मॉनसून में सबसे अधिक वर्षा दर्ज की गई. मौसम विभाग ने इसे 'सामान्य से अधिक' बताया. आईएमडी ने कहा कि मॉनसून देश के कुछ हिस्सों के ऊपर अभी भी सक्रिय है. विभाग ने कहा कि मॉनसून की वापसी 10 अक्टूबर के आसपास उत्तरपश्चिम भारत से शुरू होने की उम्मीद है. यह मॉनसून की अब तक की दर्ज सबसे विलंबित वापसी है. मॉनसून सामान्य तौर पर एक सितंबर से पश्चिमी राजस्थान से वापस होना शुरू होता है. भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि गुजरात और बिहार के ऊपर वर्षा गतिविधि मंगलवार से कम होनी शुरू होगी.

मौसम विभाग ने कहा, 'मात्रात्मक दृष्टि से, 2019 दक्षिण-पश्चिम मॉनसून मौसम (जून से सितंबर) सामान्य वर्षा से अधिक के साथ समाप्त होता है. मात्रात्मक दृष्टि से मॉनसून मौसमी वर्षा का दीर्घकालिक औसत (एलपीए) 110 प्रतिशत था.' एलपीए 1961 और 2010 के बीच वर्षा का औसत होता है जो कि 88 सेंटीमीटर है. देश में 2018 में 'सामान्य से कम' वर्षा दर्ज की गई थी. मॉनसून इस वर्ष सामान्य से एक सप्ताह की देरी से आया था. मॉनसून ने आठ जून को केरल के ऊपर से शुरुआत की थी, लेकिन जून में इसकी गति सुस्त हो गई थी और जून में 33 प्रतिशत कम वर्षा हुई थी. अगले तीन महीनों के दौरान सामान्य से अधिक वर्षा हुई. चार महीने के मॉनसून मौसम के दौरान अगस्त में एलपीए का 115 प्रतिशत बारिश दर्ज हुई. ऐसा 1996 (119 प्रतिशत) के बाद पहली बार हुआ. इसी तरह से सितंबर में दर्ज वर्षा (एलपीए का 152 प्रतिशत) 1917 (एलपीए का 165 प्रतिशत) के बाद दूसरी सबसे अधिक वर्षा थी.

जुलाई में एलपीए का 105 प्रतिशत वर्षा दर्ज हुई. समग्र वर्षा के आंकड़े मौसम विभाग और निजी पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के प्रारंभिक पूर्वानुमान से उलट थे. मौमस विभाग ने एलपीए का 96 प्रतिशत वर्षा, जबकि स्काईमेट ने 93 प्रतिशत वर्षा का पूर्वानुमान जताया था. दोनों ने कहा था कि इसमें पांच प्रतिशत ऊपर नीचे हो सकता है. भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि देश में इस वर्ष एलपीए की 110 प्रतिशत वर्षा दर्ज की गई जो कि 1994 की तरह है. भारतीय मौसम विभाग ने कहा, '1931 के बाद ऐसा पहली बार हुआ जब मौसमी वर्षा एलपीए से अधिक है, जबकि जून की बारिश एलपीए से 30 प्रतिशत से अधिक कम थी. 2010 के बाद ऐसा पहली बार हुआ जब पिछले तीन महीनों (जुलाई से सितंबर) के दौरान वर्षा एलपीए से अधिक हुई.' अधिकांश राज्यों में इस वर्ष बाढ़ आई जिससे बड़े पैमाने पर विनाश और जनहानि हुई. आईएमडी ने कहा कि यह प्रवृत्ति चिंताजनक है कि पिछले 19 मॉनसून मौसमों में से 18 में वर्षा दीर्घकालिक औसत से कम दर्ज की गई है.

VIDEO: पटना के पानी-पानी होने की कहानी



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com