पाकिस्तान बॉर्डर पर भारत बिछाएगा ऐसा यंत्र, कदम रखते ही घुसपैठिए का होगा काम तमाम

भारत बार्डर पर इजरायल में विकसित अत्याधुनिक बाड़ प्रणाली तैनात करने जा रहा है.

पाकिस्तान बॉर्डर पर भारत बिछाएगा ऐसा यंत्र, कदम रखते ही घुसपैठिए का होगा काम तमाम

भारत बॉर्डर इलाके को पूरी तरह सील करने की योजना पर काम कर रहा है. तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  • इजरायल की तर्ज पर भारत भी बॉर्डर पर बिछाएगा खास तरह का बाड़
  • सीसीटीवी लैस कंट्रोल रूम के अलर्ट पर कार्रवाई करेगा क्यूआरटी
  • पीएम मोदी पाक-बांग्लादेश बॉर्डर को पूरी तरह सील करना चाहते हैं
नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर में भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर घुसपैठ रोकने के लिए खास तकनीक का सहारा लिया जाएगा. सीमापार से आने वाले आतंकवादियों के भारत में कदम रखते ही उनके लिए आफत आ जाएगी. भारत बार्डर पर इजरायल में विकसित अत्याधुनिक बाड़ प्रणाली तैनात करने जा रहा है. इसके तहत खुफिया सीसीटीवी कैमरों से संचालित कंट्रोल रूम के जरिये घुसपैठ की किसी भी कोशिश पर अलार्म बजा कर त्वरित कार्रवाई दस्ते (क्यूआरटी) को सक्रिय कर दिया जाएगा. यह दस्ता घुसपैठिए का काम तमाम करने के में तनिक भी देर रही लगाएंगे. क्यूआरटी दस्ते में आतंकियों को ठिकाने लगाने का जिम्मा बीएसएफ के पास होगा. 

ये भी पढ़ें: हाफिज सईद की पार्टी ने नवाज शरीफ की बीवी कुलसुम के खिलाफ उम्मीदवार उतारा

बॉर्डर को पूरी तरह सील करना चाहते हैं पीएम मोदी: सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक केके शर्मा ने ने बताया कि बीएसएफ पाक से लगी सीमा पर महत्वाकांक्षी परियोजना कांप्रीहेंसिव इंटीग्रेटेड बार्डर मैनेजमेंट सिस्टम (सीआइबीएमएस) तैनात करने जा रहा है. 

ये भी पढ़ें: जम्‍मू-कश्‍मीर में एक दिन में चौथी बार पाकिस्तान ने किया संघर्ष विराम उल्लंघन

भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश सीमा पूरी तरह सील करने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा के अनुरूप यह कदम उठाया जा रहा है. उन्होंने बताया कि अगले कुछ वर्षो में दोनों देशों से लगी सीमा को पूरी तरह सील कर दिया जाएगा. पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगती भारत की लगभग 6,300 किमी लंबी सीमा की रखवाली और सुरक्षा का जिम्मा बीएसएफ के पास ही है.

ये भी पढ़ें: सीमा पर पाकिस्तान की ओर से फायरिंग, भारतीय सुरक्षाबलों ने दिया मुंहतोड़ जवाब

पंजाब-गुजरात बॉर्डर पर भी होगा ऐसा ही इंतजाम: केके शर्मा ने बताया, 'नई निगरानी प्रणाली से सीमा सुरक्षा संबंधी हमारे अभियान में व्यापक बदलाव आएगा. अभी हम बार्डर पर प्वाइंट ए से बी तक गश्त करते हैं. अब हम त्वरित कार्रवाई दस्ता (क्यूआरटी) आधारित निगरानी सिस्टम की ओर शिफ्ट करने जा रहे हैं. इसके तहत कई नई तकनीक का इस्तेमाल भी होगा, जिनसे पूर्व में हम परिचित नहीं थे.' 

ये भी पढ़ें: 'पाक में ऐसा कानून लाएंगे, PM को अचानक बर्खास्‍त नहीं किया जा सकेगा'

डीजीपी बीएसएफ के अनुसार, 'इस प्रणाली को पहले भारत-पाक और बाद में बांग्लादेश से सटी सीमा पर तैनात किया जाएगा. सीआइबीएमएस से सीमा की चौबीस घंटे निगरानी की जाएगी. इसमें ऐसे सॉफ्टवेयर हैं, जो ठीक उस स्थान की शिनाख्त कर अलार्म बजा देगा, जहां घुसपैठ की कोशिश हो रही है. फिर हम नाइट विजन कैमरे के जरिये वहां की गतिविधियों को जान लेंगे. इससे घुसपैठियों और देश के दुश्मनों को मार गिराना आसान होगा.' 

वीडियो: जम्मू पुलिस ने पाकिस्तान उच्चायोग से दुजाना का शव ले जाने को कहा

Newsbeep

शर्मा ने बताया कि अभी जम्मू के पांच किमी क्षेत्र में इस प्रणाली को तैनात किया गया है. इसके बाद पंजाब और गुजरात से लगती सीमा पर इसकी तैनाती होगी. बाद में त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल और असम में भी यह काम करने लगेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इनपुट: पीटीआई