NDTV Khabar

लेट तो होती है जापान की बुलेट ट्रेन लेकिन...ऐसी जानकारी जो आप अभी तक नहीं जानते होंगे

ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, पोलैंड, पुर्तगाल, रूस, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, ताइवान, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और उजबेकिस्तान में बुलेट ट्रेनें दौड़ रही हैं.

27 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लेट तो होती है जापान की बुलेट ट्रेन लेकिन...ऐसी जानकारी जो आप अभी तक नहीं जानते होंगे

बुलेट ट्रेन (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  1. देश में आज बुलेट ट्रेन की आधारशिला रखी गई.
  2. जापान के सहयोग से बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट
  3. जापान ने सबसे पहले चलाई थी बुलेट ट्रेन.
नई दिल्ली: दुनिया में कई देश हैं जहां बुलेट ट्रेन दौड़ रही हैं. भारत अभी भी इसमें पीछे है. अब जापान के सहयोग से भारत जमीनी यातायात के इस सबसे तेज साधन का इस्तेमाल करेगा. हाई स्पीड रेल या कहें बुलेट ट्रेन ज्यादातर यूरोपीय देशों में दौड़ रही है. ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, पोलैंड, पुर्तगाल, रूस, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, ताइवान, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और उजबेकिस्तान में बुलेट ट्रेनें दौड़ रही हैं. केवल यूरोप में ही बुलेट ट्रेन देश की सीमाओं से पार जाती हैं. 

दुनिया में 1964 में पहली बार बुलेट ट्रेन धरती पर दौड़ी थी. सबसे पहले जापान ने बुलेट ट्रेन को दौड़ाया और लोगों के प्रयोग में लेकर आई. बुलेट ट्रेन की अमूमन स्पीड 250 किलोमीटर प्रतिघंटा तक हो सकती है और अकसर इसे 200 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से दौड़ाया जाता है.

यह भी पढ़ें : देश में ‘बुलेट ट्रेन’ का सपना साकार करने की दिशा में बढ़े कदम, टैल्गो रेल कोच का सेंसर ट्रायल सफल

खास बात है कि भारत का पड़ोसी देश चीन दुनिया में बुलेट ट्रेन का जाल बिछाने में सबसे आगे है. दिसबंर 2016 तक चीन ने 22000 किलोमीटर तक की दूरी के लिए बुलेट ट्रेन का जाल बिछा लिया था. जानकारी के लिए बता दें कि ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने के सिलसिले में सबसे आगे जर्मनी हुआ करता था. 23 अक्टूबर 1903 को जर्मनी ने 206.7 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाई थी. 
VIDEO: बुलेट ट्रेन पर सबसे सटीक जानकारी और पूरा अपडेट

1955 से अब तक के रिकॉर्ड के अनुसार फ्रांस ने सबसे तेज रफ्तार से बुलेट ट्रेन को दौड़ाने का रिकॉर्ड बनाया है. 2007 में फ्रांस ने 574.8 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से बुलेट ट्रेन दौड़ाई थी.  21 अप्रैल 2015 में नॉन पैसेंजर ट्रेन को 603 किलोमीटर प्रतिघंटा के रफ्तार से दौड़ाया गया है. 
VIDEO: बुलेट ट्रेन पर खास रिपोर्ट

जापान में भी बुलेट ट्रेन में होती है देरी लेकिन...
जापान में बुलेट ट्रेन के परिचालन में 0.6 मिनट की देरी एवरेज है. लेकिन यहां तक तो ठीक है. अगर ट्रेन के परिचालन में पांच मिनट की देरी हो जाती है तो उसे डिले सर्टिफिकेट दिया जाता है. यह तब भी हो जाता है रेल परिचालन में लगे लोगों और कंपनियों के बस के बाहर के कारण भी होते हैं. जैसे खराब मौसम, जिसमें कोहरा, बारिश आदि भी शामिल हैं. देरी होने पर ट्रेन के यात्रियों को भी प्रिंट आउट के जरिए ट्रेन के लेट होने का सर्टिफिकेट दिया जाता है जिसे यात्री अपने कार्यालय या फिर बैंक स्कूल आदि जगहों पर दिखा सकते हैं. आजकल कई कंपनियां अपनी वेबसाइट पर इससे जुड़ी जानकारी डालती हैं जो हफ्तों वहां पर बनी रहती है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement