असम में तैनात आईपीएस अधिकारी का भाई बना हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी

इस युवक का नाम शैम्सुल है और इसके बड़े भाई इनाम उल हक मेंगनू 2012 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं.

असम में तैनात आईपीएस अधिकारी का भाई बना हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी

शैम्सुल हक 22 मई को हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ है.

खास बातें

  • सोशल मीडिया में तस्वीर हुई वायरल
  • असम में तैनात है आईपीएस अधिकारी
  • मेडिकल सर्जरी का छात्र है आरोपी
गुवाहाटी/श्रीनगर:

असम में तैनात एक आईपीएस अधिकारी के भाई की फोटो कश्मीर में वायरल हुई जिसमें वह एके-47 लिये खड़ा है और बताया जा रहा है कि वह आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन  में शामिल हो गया है. 25 साल के इस युवक की तस्वीर सोशल मीडिया में आने के बाद असम कई पुलिसकर्मी और उनके परिवार के लोग हैरान हैं. उनको विश्वास नहीं हो रहा है कि उनके बीच तैनात एक अधिकारी का भाई अब आतंकवादी है. 

UN की रिपोर्ट में हुआ खुलासा, आतंकी संगठन पाकिस्तानी बच्चों को बना रहे हैं आत्मघाती

इस युवक का नाम शैम्सुल है और इसके बड़े भाई इनाम उल हक मेंगनू 2012 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. उनको असम-मेघालय कॉडर मिल हुआ है और अभी उनकी तैनातगी असम पुलिस कमांडो बटालियन में है. मिली जानकारी के मुताबिक शैम्सुल हक मेंगनू 22 मई को हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ है इसी दिन से वह गायब था. उसको आतंकी संगठन की ओर से एक कोड नेम 'बुरहान सानी' दिया गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कुलगाम में पुलिस भर्ती के दौरान उमड़े नौजवान​

शैम्सुल इस समय जम्मू-कश्मीर के एक सरकारी कॉलेज में मेडिकल सर्जरी में ग्रेजुएशन कर रहा है और वहीं से वह गायब हुआ था. शैम्सुल शोपियां के जिले के द्रगौड गांव का रहने वाला है. हालांकि अभी तक उसके बारे में पुलिस की ओर से कोई भी जानकारी नहीं दी गई है. वहीं नाम न बताने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि यहां पर जब कोई शख्स आतंकी संगठन में शामिल होता है तो वह सोशल मीडिया में बंदूक लहराते हुये फोटो शेयर करता है.