NDTV Khabar

अयोध्या विवाद : मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नहीं, सुप्रीम कोर्ट 28 को सुना सकता है फैसला

मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नहीं, सुप्रीम कोर्ट इस पर 28 सितंबर को अपना फैसला सुना सकता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अयोध्या विवाद : मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नहीं, सुप्रीम कोर्ट 28 को सुना सकता है फैसला

कोर्ट की एडवांस लिस्ट के मुताबिक 28 सितंबर को फैसला सूचीबद्ध है.

खास बातें

  1. पीठ ने कहा था कि मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का इंट्रीगल पार्ट नहीं है
  2. 1994 में पांच जजों की पीठ ने यथास्थिति बरकरार रखने का निर्देश दिया था
  3. 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित जमीन पर दिया था फैसला
नई दिल्ली :

मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नहीं, सुप्रीम कोर्ट इस पर 28 सितंबर को अपना फैसला सुना सकता है. कोर्ट की एडवांस लिस्ट के मुताबिक 28 सितंबर को फैसला सूचीबद्ध है. आपको बता दें कि यह मामला अयोध्या विवाद से जुड़ा है. 20 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने इस पर फैसला सुरक्षित रखा था कि संविधान पीठ के 1994 के फैसले पर फिर विचार करने की जरूरत है या नहीं. दरअसल सुप्रीम कोर्ट अयोध्या विवाद में टाइटल सूट से पहले इस पहलू पर सुनवाई कर रहा था कि मस्जिद में नमाज पढना इस्लाम का अभिन्न हिस्सा है या नही.

यह भी पढ़ें : अयोध्या राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने दी PM मोदी को चेतावनी

कोर्ट ने ये कहा था पहले ये तय होगा कि संविधान पीठ के 1994 के उस फैसले पर फिर से विचार करने की जरूरत है या नहीं कि मस्जिद में नमाज पढना इस्लाम का इंट्रीगल पार्ट नहीं है. इसके बाद ही टाइटल सूट पर विचार होगा. 1994 में पांच जजों की पीठ ने राम जन्मभूमि में यथास्थिति बरकरार रखने का निर्देश दिया था, ताकि हिंदू पूजा कर सकें. पीठ ने ये भी कहा था कि मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का इंट्रीगल पार्ट नहीं है. 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला देते हुए विवादित जमीन का एक तिहाई हिस्सा हिंदू, एक तिहाई मुस्लिम और एक तिहाई राम लला को दिया था.


टिप्पणियां

यह भी पढ़ें : राम मंदिर को लेकर शिवसेना ने केंद्र सरकार को दी यह नसीहत, कहा... 

VIDEO: अयोध्या में राम मंदिर बनकर रहेगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट हमारा है



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement