NDTV Khabar

ओडिशा का 'दशरथ मांझी' : बच्चों को स्कूल भेजने के लिए पहाड़ को काटकर बना दी सड़क

ओडिशा में जालंधर नायक नामक एक शख्स ने पहाड़ को काटकर सड़क बना दी ताकि उनके बच्चे स्कूल जा सकें.

996 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ओडिशा का 'दशरथ मांझी' : बच्चों को स्कूल भेजने के लिए पहाड़ को काटकर बना दी सड़क

ओडिशा का 'दशरथ मांझी' कहे जा रहे हैं जालंधर नायक...

खास बातें

  1. ओडिशा के दशरथ मांझी की तर्ज पर सड़क बनाई जालंधर नायक ने
  2. पहाड़ काटकर 8 किमी की सड़क खुद बनाई
  3. बच्चों को स्कूल आने जाने में आती थी दिक्कत
नई दिल्ली: बिहार के दशरथ मांझी याद होंगे आपको. केवल एक हथौड़ा और छेनी लेकर इन्होंने अकेले ही 360 फुट लंबी 30 फुट चौड़ी और 25 फुट ऊंचे पहाड़ को काट के एक सड़क बना डाली थी. माउंटेन मैन के रूप में जाने जाने वाले दशरथ मांझी बिहार में गया के करीब गहलौर गांव के एक गरीब मजदूर थे. अब ओडिशा में जालंधर नायक नामक एक शख्स ने पहाड़ को काटकर सड़क बना दी ताकि उनके बच्चे स्कूल जा सकें. यह मामला अपने आप में भले ही हैरान करने वाला हो लेकिन एक पिता के ऐसा करना महती जरूरत और अपने बच्चों के लिए अथाह प्रेम रहा होगी, तभी उन्होंने इस बड़े काम को अंजाम दिया.

महाराष्ट्र के ‘माउंटेन मैन’, 57 साल में 7 पहाड़ियां काटकर 40 किमी सड़क बनाई
 
jalandar nayak

ओडिशा के गुमसाही गांव का यह मामला है. कंधमाल के रहने वाले जालंधर नायक ने गुमसाही गांव से लेकर फुलबानी शहर के बीच पड़ने वाले एक विशाल पहाड़ को काटकर 8 किलोमीटर लंबी सड़क बना दी. न्यूज एंजेसी एएनआई से मिली इस जानकारी के मुताबिक, जालंधर ने ऐसा इसलिए किया ताकि उनके बच्चे बिना किसी दिक्कत के स्कूल जा सकें.
 
jalandar nayak

ये तस्वीरें उनके कर्मठ जज्बे को बयान करने के लिए काफी हैं. इसी बीच दशरथ मांझी के बारे में बता दें कि वह एक बेहद पिछड़े इलाके से आते थे और दलित जाति से थे.

VIDEO- 'माउंटेनमैन' दशरथ मांझी के गांव गहलौर से खास रिपोर्ट

दशकों की मेनहत के बाद बाद दशरथ मांझी ने अतरी और वजीरगंज ब्लाक की दूरी को 55 किमी से 15 किलोमीटर कर दिया था इस सड़क के माध्यम से.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement