NDTV Khabar

'कल के बारे में नहीं जानता लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं'- जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शनिवार को राज्य के विशेष दर्जे के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'कल के बारे में नहीं जानता लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं'- जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

सत्यपाल मलिक ने कहा कि राज्य के विशेष दर्जे को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं

श्रीनगर :

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शनिवार को राज्य के विशेष दर्जे के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है. उनकी यह टिप्पणी उमर अब्दुल्ला के साथ हुई मुलाकात के कुछ घंटों के बाद आई. नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने अंदेशा जताया था कि  केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे को लेकर बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है. बता दें कि उमर अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उनकी पार्टी को भरोसा दिलाया दिया है कि संविधान के 'अनुच्छेद 370 और 35 ए' को रद्द किए जाने या राज्य को तीन हिस्सों में बांटने जैसा कदम उठाने की कोई योजना नहीं है. हालांकि, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वह इन मुद्दों पर सोमवार को संसद में केंद्र का आश्वासन चाहते हैं क्योंकि जम्मू कश्मीर पर राज्यपाल अंतिम प्राधिकार नहीं हैं. 

क्या जम्मू-कश्मीर पुलिसकर्मियों के हथियार जमा कराए जा रहे हैं? जानें- सच्चाई


नेशनल कांफ्रेंस के नेता ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने (राज्यपाल ने) हमें भरोसा दिलाया है कि अनुच्छेद 370 या अनुच्छेद 35 ए (रद्द करने पर) या परिसीमन (राज्य के निर्वाचन क्षेत्रों की) पर कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है, बैठक के बाद राज्यपाल ने भी एक बयान जारी कर कहा कि राज्य को संवैधानिक प्रावधानों में किसी बदलाव की कोई जानकारी नहीं है और यह आश्वस्त किया कि अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की तैनाती सुरक्षा कारणों को लेकर की गई है. उमर ने कहा कि उन्होंने अपनी पार्टी के सांसदों को सोमवार को संसद में एक प्रस्ताव पेश कर जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ हफ्तों में बनी स्थिति पर केंद्र सरकार का बयान मांगने को कहा है. 

टिप्पणियां

जहरीले सांप से भिड़ कया वफादार कुत्ता, अपनी जान गंवा कर बचाई मालिक की जान

जम्मू-कश्मीर सरकार के गृह विभाग ने अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों से सुरक्षा को लेकर खतरे के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर से लौटने के लिए कहा है. सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि पाकिस्तान कश्मीर घाटी में अशांति फैलाने की लगातार कोशिशें कर रहा है. इसके लिए सीमा पार से आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की कोशिशें हो रही हैं.15 कोर कमांडर लेफ़्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने कहा कि इस तरह के इंटरनेशनल इनपुट्स मिले हैं कि आतंकी अमरनाथ यात्रा पर हमले की साज़िश रच रहे हैं.  



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement