NDTV Khabar

भारत के उच्च वर्ग का एक तबका ‘सड़े आलू’ जैसा, समाज के प्रति नहीं है संवेदनशील : सत्यपाल मलिक

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने देश के धनाढ्य वर्ग के एक तबके को सड़े आलू जैसा बताया और कहा कि उनमें समाज के प्रति कोई संवेदनशीलता नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत के उच्च वर्ग का एक तबका ‘सड़े आलू’ जैसा, समाज के प्रति नहीं है संवेदनशील : सत्यपाल मलिक

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने देश के धनाढ्य वर्ग के एक तबके को सड़े आलू जैसा बताया और कहा कि उनमें समाज के प्रति कोई संवेदनशीलता नहीं है और वे कोई धर्मार्थ कार्य नहीं करते. राज्यपाल मलिक अनेक बार कश्मीर के अमीर नेताओं और नौकरशाहों के खिलाफ मुखर हो चुके हैं. वह राज्य के सैनिक वेल्फेयर सोसाइटी के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.    

सत्यपाल मलिक बोले, मैं प्रोटोकॉल तोड़कर उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती से मदद मांगने उनके घर गया

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा, ‘इस देश में जो धनाढ्य हैं उनका एक बड़ा वर्ग...कश्मीर में नेता और नौकरशाह सभी अमीर हैं...उनमें समाज के प्रति कोई संवेदनशीलता नहीं है. वे एक रुपए का भी धर्मार्थ कार्य नहीं करते.' उन्होंने कहा, ‘इनमें से उच्च वर्ग में कुछ हैं. आप इसे बुरे तरीके से नहीं लें, मैं उन्हें इंसान नहीं ‘सड़े आलू' के समान मानता हूं .' 


जम्मू-कश्मीरः राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने लिए तीन ऐसे फैसले, जिस पर भड़क उठीं महबूबा मुफ्ती

इस दौरान एक पत्रकार ने उनसे प्रश्न किया कि देश का अमीरतम व्यक्ति जो अपनी बेटी की शादी में 700 करोड़ रुपए खर्च करता है, क्या वह कोई धर्मार्थ कार्य करता है. इस पर राज्यपाल ने कहा कि वह धर्मार्थ कार्य नहीं करता लेकिन देश के धन में इजाफा करता है.' इस दौरान उन्होंने हालांकि किसी का नाम नहीं लिया.

सत्यपाल मलिक के कहा, ‘यूरोप में और अन्य देशों में वे धर्मार्थ कार्य करते हैं. माइसॉफ्ट के मालिक अपनी संपत्ति का 99 प्रतिशत धर्मार्थ कार्यों के लिए देते हैं. लेकिन उन्होंने कहा कि वह धर्मार्थ कार्य नहीं करते लेकिन देश की संपत्ति में इजाफा करते हैं.'     उन्होंने कहा कि 700 करोड़ रुपए से राज्य में 700 बड़े स्कूल बनाए जा सकते थे और शहीदों की 7000 विधवाएं अपने बच्चों का लालन पालन कर सकती थीं. 

जम्मू-कश्मीर: गवर्नर सत्यपाल मलिक को सता रहा है 'तबादले का डर', बोले- पता नहीं कितने दिन यहां हूं

टिप्पणियां

राज्यपाल ने कहा, ‘लेकिन वे धर्मार्थ कार्य नहीं करेंगें. समाज के इस तबके (उच्च वर्ग) में जो संवेदनशीलता होनी चाहिए वह इनमें नहीं हैं.' उन्होंने कहा कि समाज उच्च वर्ग से नहीं बनता बल्कि किसानों ,कर्मचारियों, उद्योंगों में काम करने वाले लोगों और सशस्त्र बलों में काम करने वाले लोगों से बनता है. उन्होंने कहा, ‘चलें हम अपने सशस्त्र बलों का मनोबल बढ़ाएं , उनकी मदद करें और उन्हें याद रखें.'

VIDEO: सत्यपाल मलिक का चौंकाने वाला बयान: पता नहीं कब तबादला हो जाए


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement