NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर: तीन नेताओं को किया गया रिहा, अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद लिए गए थे हिरासत में

जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के केंद्र सरकार के पांच अगस्त के फैसले के बाद नेताओं, अलगाववादियों, कार्यकर्ताओं और वकीलों समेत हजार से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर: तीन नेताओं को किया गया रिहा, अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद लिए गए थे हिरासत में

करीब 250 लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर जेल भेजे गए.

श्रीनगर:

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) प्रशासन ने पांच अगस्त को राज्य का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने के बाद से हिरासत में लिये गये तीन नेताओं को गुरुवार को रिहा कर दिया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि यावर मीर, नूर मोहम्मद और शोएब लोन को विभिन्न आधारों पर रिहा किया गया है. मीर राफियाबाद विधानसभा सीट से पूर्व विधायक रह चुके हैं, जबकि लोन ने कांग्रेस के टिकट से उत्तर कश्मीर से चुनाव लड़ा था जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. उन्होंने बाद में कांग्रेस छोड़ दी थी. उन्हें पीपुल्स कॉन्फ्रेंस प्रमुख सज्जाद लोन का करीबी माना जाता है. नूर मोहम्मद नेशनल कॉन्फ्रेंस के कार्यकर्ता हैं. 

अधिकारियों ने बुधवार को बताया था कि रिहा किए जाने से पहले नूर मोहम्मद एक शपथ पत्र पर हस्ताक्षर कर शांति बनाए रखने एवं अच्छे व्यवहार का वादा करेंगे. इससे पहले राज्यपाल प्रशासन ने पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के इमरान अंसारी और सैयद अखून को स्वास्थ्य कारणों से 21 सितंबर को रिहा किया था.


इमरान खान के साथ बैठक में जम्मू-कश्मीर को लेकर सामने आई चीन की 'मंशा', भारत ने भी दिया जवाब, 12 बड़ी बातें

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के केंद्र सरकार के पांच अगस्त के फैसले के बाद नेताओं, अलगाववादियों, कार्यकर्ताओं और वकीलों समेत हजार से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया था. इनमें तीन पूर्व मुख्यमंत्री- फारुख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती शामिल हैं.

कश्मीर के हालात पर संयुक्त राष्ट्र ने जताई चिंता, UN चीफ बोले- हमारे कुछ कर्मी कश्मीर में काम कर रहे हैं

करीब 250 लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर जेल भेजे गए. फारुक अब्दुल्ला को बाद में लोक सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में लिया गया जबकि अन्य नेताओं को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) के तहत हिरासत में लिया गया.

टिप्पणियां

Kashmir मुद्दे पर अमेरिकी सीनेटर का बड़ा बयान - भारत की सुरक्षा संबंधी चिंताएं जायज, लेकिन...

VIDEO: कश्मीर घूमने जा सकेंगे पर्यटक, ट्रैवल एडवाइजरी रद्द



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement