जब उमर अब्दुल्ला ने 15 मिनट के भीतर महबूबा मुफ्ती के ट्वीट चार बार किए रीट्वीट

यह हुआ तब जब महबूबा मुफ्ती ने जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश किया.

जब उमर अब्दुल्ला ने 15 मिनट के भीतर महबूबा मुफ्ती के ट्वीट चार बार किए रीट्वीट

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला.

खास बातें

  • महबूबा मुफ्ती ने किया सरकार बनाने का दावा पेश.
  • राजभवन नहीं पहुंच पाया महबूबा का दावा.
  • राज्यपाल ने भंग की विधानसभा.
श्रीनगर:

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला वर्षों से राजनीतिक प्रतिद्वंदी रहे हैं और कभी-कभार ही एक दूसरे से आंखें मिलाते हुए देखे गए. लेकिन बुधवार शाम पूरा माजरा ही पलटा हुआ नजर आया. उमर अब्दुल्ला ने 15 मिनट के भीतर महबूबा मुफ्ती के ट्वीट्स को चार बार रीट्वीट किया है. यह हुआ तब जब महबूबा मुफ्ती ने जम्मू-कश्मीर में नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश किया. और इसके कुछ मिनट बाद ही राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधानसभा भंग करने का आदेश जारी कर दिया. 

उमर अब्दुल्ला ने इस मामले में सबसे पहला ट्वीट तब किया, जब महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट करके बताया कि उनका सरकार बनाने के दावे का फैक्स राजभवन नहीं जा रहा है. इसके बाद अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, 'जम्मू-कश्मीर राजभवन को नई फैक्स मशीन की तुरंत जरूरत है.' इसके तुरंत बाद राज्यपाल ने विधानसभा भंग करने का आदेश जारी कर दिया. इस पर मुफ्ती ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए. इनमें से चार ट्वीट्स को अब्दुल्ला ने रीट्वीट किया. और ये सारे रीट्वीट 15 मिनट के भीतर किए गए.

Exclusive: जम्मू-कश्मीर में इस नेता पर दांव खेलना चाहते थे राम माधव, मगर पार्टी आलाकमान ने खड़े कर दिए हाथ!


विधानसभा भंग होने के बाद अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, 'नेशनल कॉन्फ्रेंस पिछले पांच महीने से विधानसभा भंग करने की मांग कर रही है. यह कोई संयोग नहीं हो सकता कि मुफ्ती के सरकार बनाने का दावा पेश करने के कुछ मिनट बाद ही विधानसभा भंग करने का आदेश जारी कर दिया गया.'

जम्मू-कश्मीर: राजभवन की 'खराब' फैक्स मशीन ने टि्वटर को बनाया 'सियासी अखाड़ा', उमर अब्दुल्ला ने ली चुटकी​


उमर अब्दुल्ला ने मुफ्ती के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अपनी प्रतिक्रियाएं भी दी हैं. मुफ्ती ने ट्वीट किया था, 'एक नेता के तौर पर मेरे 26 साल के करियर में मैं सोचती थी कि मैंने सब कुछ देख लिया है. लेकिन ऐसा कभी नहीं कहना चाहिए. असंभव को संभव बनाने के लिए मैं उमर अब्दुल्ला और अंबिका सोनी जी का तह दिल से शुक्र अदा करना चाहूंगी.' इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अब्दुल्ला ने लिखा है, 'और मैंने कभी नहीं सोचा था कि किसी बात पर आपसे सहमत होते हुए आपके ट्वीट को रीट्वीट करूंगा. राजनीति सच में अनोखी है. आगे की जंग के लिए शुभकामनाएं. एक बार फिर लोगों की समझ की जीत होगी.'

जम्मू-कश्मीर में क्यों और कैसे भंग हुई विधानसभा, जानें पूरे घटनाक्रम की 10 बड़ी बातें

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com