NDTV Khabar

महबूबा मुफ्ती के 'फैक्स' वाले आरोप पर बोले राज्यपाल- कल ईद थी, मुझे कोई खाना देने वाला भी नहीं था

राज्यपाल ने बुधवार रात जम्मू-कश्मीर विधानसभा को भंग कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महबूबा मुफ्ती के 'फैक्स' वाले आरोप पर बोले राज्यपाल- कल ईद थी, मुझे कोई खाना देने वाला भी नहीं था

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक.

खास बातें

  1. फैक्स मिल भी जाता तो मेरा फैसला वही रहता- राज्यपाल
  2. 'माहौल बहुत ज्यादा खराब हो गए थे'
  3. 'पहले इन्होंने ही सदन भंग करने की मांग की थी'
नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने विधानसभा भंग करने के फैसले को सही बताया. राज्यपाल ने यह फैसला पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती द्वारा सरकार बनाने के लिए दावा पेश करने के बाद लिया था. एनडीटीवी से बात करते हुए राज्यपाल ने कहा, 'विधानसभा गलत समय पर नहीं, सही समय पर भंग की गई है.' उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला जो अब कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर रहे हैं, उन्होंने कई बार सदन को भंग करने की मांग की है. राज्यपाल ने कहा, 'मुझे दोनों तरफ से विधायकों की खरीद-परोख्त की जानकारी मिल रही थी. हालात बहुत खराब हो रहे थे. किसी के पास बहुमत का आंकड़ा भी नहीं था.'

सदन भंग करने का फैसला पहले क्यों नहीं लिया गया? इस सवाल पर उन्होंने कहा, 'पहले सदन भंग करने की कोई वजह नहीं थी. पहले कोई भी ऐसे डरावने तरीके से सरकार बनाने के लिए नहीं आया था. लोकतंत्र काम कर रहा था. विधायकों को फंड मिल रहे थे. एक दो जिलों में ही विद्रोह बाकी रह गया था. हमने स्थानीय निकाय चुनाव शांति से संपन्न करवाए. कोई पत्थरबाजी नहीं हो रही थी. लेकिन जब मैंने देखा कि माहौल खराब हो रहा तो मैंने सदन भंग करने का फैसला किया.


Exclusive: जम्मू-कश्मीर में इस नेता पर दांव खेलना चाहते थे राम माधव, मगर पार्टी आलाकमान ने खड़े कर दिए हाथ!

महबूबा मुफ्ती का कॉल पिक न करने और राजभवन में फैक्स न पहुंचने के आरोप पर राज्यपाल ने कहा, 'कल ईद थी, राजभवन में मुझे कोई खाना देना वाला भी नहीं था. वह एक दिन पहले मेरे पास आ सकती थीं.' इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'अगर मुझे उनका फैक्स मिल भी जाता तो मेरे फैसला वही रहता.'

जम्मू-कश्मीर विधानसभा क्यों हुई भंग ? राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने गिनाए ये 4 कारण​

'विधानसभा में किसी के पास नंबर नहीं'

टिप्पणियां

बता दें, बुधवार को महबूबा मुफ्ती ने कांग्रेस और नेशनल कॉन्फ्रेंस के समर्थन के साथ सरकार बनाने का दावा किया था. लेकिन उनके दावे के पत्र का फैक्स राजभवन नहीं पहुंच पाया. इसके बाद मुफ्ती ने टि्वटर पर वह पत्र ट्वीट करते हुए लिखा था कि मेरा पत्र राजभवन फैक्स नहीं हो रहा और फोन से भी राज्यपाल से संपर्क नहीं हो पा रहा है.

जम्मू-कश्मीर: राजभवन की 'खराब' फैक्स मशीन ने टि्वटर को बनाया 'सियासी अखाड़ा', उमर अब्दुल्ला ने ली चुटकी



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement