NDTV Khabar

खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल की मौजूदगी पर जस्टिन ट्रूडो सख्त, कहा-कार्रवाई करेंगे

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि इसके लिए जो भी व्यक्ति या विभाग जिम्मेदार है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी.

138 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल की मौजूदगी पर जस्टिन ट्रूडो सख्त, कहा-कार्रवाई करेंगे

कनाडाई प्रधानमंत्री की पत्नी सोफी के साथ खालिस्तानी आतंकवादी जसपाल अटवाल.

खास बातें

  1. भारत दौरे पर हैं कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो
  2. ट्रूडो की डिनर पार्टी में जसपाल की मौजूदगी से हंगामा
  3. जस्टिन ट्रूडो बोले, पूरी गंभीरता से देख रहे हैं यह मामला
नई दिल्ली: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो इन दिनों भारत के दौरे पर हैं. कनाडा के पीएम ट्रूडो की डिनर पार्टी में खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल की मौजूदगी पर हंगामा मच गया है. इन सबके बीच कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा कि वह उस व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई करेंगे, जिसने उनके आधिकारिक इवेंट में खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल को आमंत्रित किया था. उन्होंने कहा कि हम इस मामले को पूरी गंभीरता से ले रहे हैं. उन्होंने कहा कि इसके लिए जो भी व्यक्ति या विभाग जिम्मेदार है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी. जसपाल अटवाल को पंजाब के एक मंत्री की हत्या के प्रयास में दोषी करार दिया जा चुका है. उसे 20 साल जेल की सजा भी सुनाई जा चुकी है.

VIDEO: कनाडा के प्रधानमंत्री ने खेला क्रिकेट, हाथ में बल्ला लेकर उछालने लगे ऐसे

इससे पहले मामला बढ़ने पर कनाडाई पीएमओ ने भी सफाई दी थी. पीएमओ ने कहा था कि अटवाल ऑफिशियल डेलिगेशन का हिस्सा नहीं था और न ही उसे पीएम ऑफिस की तरफ से बुलाया गया था. कनाडाई पीएमओ की तरफ से कहा गया, 'हमने अटवाल को कार्यक्रम का निमंत्रण नहीं  नहीं दिया था. हम इसकी जांच कर रहे हैं कि यह कैसे हुआ."

यह भी पढ़ें : अमरिंदर सिंह और पीएम जस्टिन ट्रूडो के बीच हुई मुलाकात, कैप्टन ने खालिस्तान का मुद्दा उठाया

खालिस्तानी आतंकवादी जसपाल अटवाल ने मंगलवार को मुंबई में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत भी की और कनाडाई प्रधानमंत्री की पत्नी सोफी के साथ तस्वीरें भी खिंचवाईं. हालांकि मीडिया रिपोर्टों के बाद कनाडाई दूतावास ने गुरुवार रात को दिल्ली में आयोजित होने वाले रात्रिभोज के लिए अटवाल को दिया गया न्योता वापस ले लिया है. जसपाल अटवाल प्रतिबंधित इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन में सक्रिय अलगाववादी था, जब उसे 1986 में वैंकूवर द्वीप में पंजाब के मंत्री मल्कियत सिंह सिद्धू की हत्या की कोशिश के लिए दोषी करार दिया गया था. अटवाल उन चार लोगों में शामिल था, जिन्हें निजी दौरे पर कनाडा आए मंत्री की सुनसान सड़क पर हत्या की कोशिश का दोषी पाया गया था.

वहीं, इसके बाद कनाडा के उच्चायुक्त नादिर पटेल ने खालिस्तानी आतंकी जसपाल अटवाल का आज रात (गुरुवार) का रात्रिभोज का निमंत्रण रद्द कर दिया है. पटेल ने भारत की यात्रा पर आए कनाडा के प्रधानंमत्री जस्टिन ट्रूडो और उनके प्रतिनिधिमंडल के सम्मान में यह रात्रिभोज आयोजित किया है. कनाडाई उच्चायोग ने यहां कहा, 'उच्चायोग ने अटवाल के निमंत्रण को रद्द कर दिया है. हम प्रधानमंत्री की सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर टिप्पणी नहीं करते.' 

VIDEO : रणनीति : ट्रूडो के दौरे को कम सम्मान? इसके पीछे खालिस्तान?


टिप्पणियां
अटवाल के निमंत्रण को रद्द करने का यह कदम ट्रूडो के खालिस्तान समर्थक रुख की पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह सहित अनेक लोगों की आलोचना के बाद उठाया गया है. अमरिंदर ने एक बैठक में ट्रूडो के समक्ष यह मुद्दा उठाया था, जिस पर कनाडाई प्रधानमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया कि उनका देश भारत अथवा कहीं भी अलगाववाद का समर्थन नहीं करता.

(इनपुट : एजेंसी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement