'कृषि बिल को समर्थन देना किसानों के साथ धोखा', AIADMK पर बरसे कमल हासन

तमिलनाडु में अगले साल 2021 में विधान सभा चुनाव होने हैं. AIADMK बीजेपी की सहयोगी पार्टी है जिसकी केंद्र में सरकार है.

'कृषि बिल को समर्थन देना किसानों के साथ धोखा', AIADMK पर बरसे कमल हासन

अभिनेता-नेता कमल हासन. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कृषि विधेयकों के खिलाफ कमल हासन ने जतायी नाराजगी
  • कहा- AIADMK ने कृषि बिल का समर्थन कर किसानों को धोखा दिया
  • अभिनेता ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की विवादित बिल लौटाने की गुजारिश
चेन्नई:

अभिनेता-नेता कमल हासन (Kamal Haasan) ने विवादास्पद कृषि विधेयकों (Farm Bills)को समर्थन देने पर तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी अन्नाद्रमुक (AIADMK) की आलोचना की है और इसे राज्य के किसानों के साथ धोखा करार दिया है. हासन ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए ये बिल राज्यों की स्वायत्तता पर हमला है. उन्होंने कहा कि नए कानून के बाद राज्य कुछ नहीं कर सकेंगे और इससे राज्यों में खतरनाक स्थिति उत्पन्न होगी. हासन ने कहा कि राज्य सरकारें न तो कृषि वस्तुओं की कीमतें घटा-बढ़ा सकेंगी न ही उसकी कमी दूर कर सकेंगी. हासन ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से बिलों को वापस करने का आग्रह किया है, जिसे पिछले हफ्ते संसद ने पारित किया था.

एक बयान जारी कर कमल हासन ने कहा, "मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी ने विवादित बिलों का समर्थन कर तमिलनाडु के किसानों को धोखा दिया है." उन्होंने चेतावनी दी है कि जो किसान आपको सत्ता की कुर्सी पर बिठाते हैं, वो आपको धूल में भी मिला सकते हैं.

किसान बिल पर वोटिंग को लेकर सरकार ने तोड़े नियम? सरकार के दावे से अलग कहानी बयां करता राज्यसभा का VIDEO

तमिलनाडु में अगले साल 2021 में विधान सभा चुनाव होने हैं. AIADMK बीजेपी की सहयोगी पार्टी है जिसकी केंद्र में सरकार है. हासन ने अपने बयान में कहा कि संघीय ढांचे में खेती केंद्र और राज्य का विषय हमेशा से रहा है लेकिन राज्य अपने-अपने हिसाब से कानून बनाते रहे हैं. नए कानून से सभी राज्यों के प्रत्येक किसान कोखतरा पहुंचने का अंदेशा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

हासन ने कहा, "प्रस्तावित कानून देश के किसी भी हिस्से में माल की आवाजाही की अनुमति देता है; यह खाद्य सुरक्षा के लिए खतरा है और एक खतरनाक स्थिति पैदा करेगा क्योंकि राज्य माल की कमी या उसके मूल्य वृद्धि के बीच कुछ भी नहीं कर पाएगा."

वीडियो: किसानों की फिक्र, फसल के न्यूनतम मूल्य का सवाल