कर्नाटक के कृषि मंत्री ने आत्महत्या करने वाले किसानों को बताया कायर, कांग्रेस ने की माफी की मांग

पाटिल पोनमपेट में बांस उत्पादकों को यह बता रहे थे कि कृषि व्यवसाय कितना लाभदायक है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ कायरों को इस बात का अहसास नहीं है और वे आत्महत्या करते हैं.

कर्नाटक के कृषि मंत्री ने आत्महत्या करने वाले किसानों को बताया कायर, कांग्रेस ने की माफी की मांग

बेंगलुरू:

कर्नाटक के कृषि मंत्री बी सी पाटिल ने बृहस्पतिवार को कहा कि आत्महत्या करने वाले किसान कायर हैं . कर्नाटक के कोडागु जिले के पोनमपेट में किसानों को संबोधित करते हुये कृषि मंत्री ने कहा, ''''जो किसान आत्महत्या करते हैं, वह कायर हैं . केवल वह डरपोक ही आत्महत्या करते हैं , जो अपनी पत्नी एवं बच्चों की देख-रेख नहीं कर सकते हैं.''

पाटिल पोनमपेट में बांस उत्पादकों को यह बता रहे थे कि कृषि व्यवसाय कितना लाभदायक है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ कायरों को इस बात का अहसास नहीं है और वे आत्महत्या करते हैं.

अपनी बात के समर्थन में, पाटिल ने एक महिला का उदाहरण दिया जिसने सोने की चूड़ियाँ पहन रखी थीं. मंत्री ने कहा, ''''जब मैने इस बात की जानकारी ली कि उनके हाथों में सोने की चूड़ियां कहां से आयी है, आप जानते हैं कि उन्होंने क्या कहा ? उन्होंने कहा कि इस धरती मां ने मुझे 35 साल की मेहनत के लिए यह दिया है .'''' पाटिल ने पूछा, ''''यह सब सुनकर आपको प्रसन्नता नहीं होती है .''''

उन्होंने कहा कि जब एक महिला पूरी तरह कृषि पर निर्भर है और सफलता प्राप्त करती है तो दूसरे किसान ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं .''''

Newsbeep

इस पर प्रतिक्रिया देते हुये कर्नाटक कांग्रेस के प्रवक्ता वी एस उगरप्पा ने मंत्री के बयान को कृषक समुदाय को अपमानित करने वाला बताया और इसकी निंदा की है . उगरप्पा ने पीटीआई भाषा को बताया, ''''यह किसानों का अपमान है . उन्हें (पाटिल को) इसके लिये माफी मांगनी चाहिये .''''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कांग्रेस नेता ने कहा कि मंत्री को इस बात की जड़ में जाना चाहिये और यह पता लगाना चाहिये कि कुछ किसान आत्महत्या क्यों करते हैं . उगरप्पा ने कहा, ''''कोई किसान आत्महत्या नहीं करना चाहता . कई कारण है, जैसे बाढ़, सूखा ... जिसका समाधान अब तक नहीं हुआ है. समस्या की गंभीरता को समझने के बदले मंत्री इस तरह का गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं .''''
 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)