NDTV Khabar

जब लालू यादव ने रोक दिया था लालकृष्ण आडवाणी का 'रथ', पढ़ें- पूरा किस्सा

इधर आडवाणी (Lal Krishna Advani) रथ पर सवार थे और उधर बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के दिलो-दिमाग में कुछ और चल रहा था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब लालू यादव ने रोक दिया था लालकृष्ण आडवाणी का 'रथ', पढ़ें- पूरा किस्सा

लालकृष्ण आडवाणी ने सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक 'रथयात्रा' निकालने की घोषणा की थी.

नई दिल्ली :

आज बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Advani) का जन्मदिन है. वे 92 साल के हो गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और बीजेपी के तमाम नेताओं समेत विपक्ष के भी तमाम नेताओं ने उन्हें बधाई दी है. लालकृष्ण आडवाणी ने सियासत में ये मुकाम यूं ही नहीं हासिल किया. उन्होंने तमाम पड़ाव पार किये. आडवाणी का जिक्र होता है, तो उनकी बहुचर्चित 'रथयात्रा' की भी चर्चा जरूर होती है. यह किस्सा साल 1990 का है. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा जोर पकड़ रहा था. इसी बीच लालकृष्ण आडवाणी ने सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक 'रथयात्रा' निकालने की घोषणा कर दी. इस रथयात्रा के प्रबंधन की जिम्मेदारी मिली थी देश के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को. इसके पीछे दो वजहें थीं. एक तो नरेंद्र मोदी नेशनल मीडिया से बात करने के लिए अधिकृत थे और दूसरा उनका प्रबंधन कौशल. यहां तक कि उन्होंने वीपी सिंह से लेकर यूपी सरकार तक को रथयात्रा रोकने की चुनौती दे डाली थी.  

लालू यादव की ज़ुबानी, आडवाणी को कैसे किया था गिरफ्तार


टिप्पणियां

गिरफ्तारी की योजना हो गई लीक...
बहरहाल रथयात्रा शुरू हुई, लेकिन असली ट्विस्ट बाकी था. इधर आडवाणी (Lal Krishna Advani) रथ पर सवार थे और उधर बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के दिलो-दिमाग में कुछ और चल रहा था. उन्होंने बिहार में लालकृष्ण आडवाणी का रथ रोकने की ठान ली थी और इसके लिए पूरा प्लान बना लिया गया. आडवाणी की रथयात्रा धनबाद से शुरू होने वाली थी और उन्हें सासाराम के नजदीक गिरफ्तार करने की योजना थी. हालांकि यह योजना लीक हो गई. बाद में धनबाद में गिरफ्तारी का प्लान बना, लेकिन अधिकारियों के बीच मतभेद के बाद यह योजना भी खटाई में पड़ गई. इस बीच आडवाणी की यात्रा का एक पड़ाव समस्तीपुर भी था. लालू यादव उन्हें यहां हर हाल में गिरफ्तार करना चाहते थे. लालकृष्ण आडवाणी समस्तीपुर के सर्किट हाउस में रुके थे और लालू यादव ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि उन्हें कहीं न जाने दिया जाए.

लालू यादव ने पत्रकार बनकर किया फोन
हालांकि उस शाम आडवाणी (Lal Krishna Advani) के साथ काफी समर्थक भी थे. ऐसे में उस दौरान गिरफ्तारी के बाद बवाल होने की आशंका भी थी. ऐसे में लालू यादव ने इंतजार करना ठीक समझा. इसके बाद देर रात करीब दो बजे लालू यादव ने पत्रकार बनकर सर्किट हाउस में फोन किया, ताकि यह पता लगाया जा सके कि आडवाणी के साथ कौन-कौन है. फोन आडवाणी के एक सहयोगी ने उठाया और बताया कि वो सो रहे हैं और सारे समर्थक जा चुके हैं. आडवाणी को गिरफ्तार करने का यह सबसे मुफीद मौका था और लालू यादव ने इसमें देरी नहीं की. 25 सितंबर को सोमनाथ से शुरू हुई आडवाणी की रथयात्रा 30 अक्टूबर को अयोध्या पहुंचनी थी, लेकिन 23 अक्टूबर को आडवाणी को बिहार में गिरफ्तार कर लिया गया. आडवाणी की गिरफ्तारी के बाद केंद्र की सियासत में भूचाल मच गया. BJP ने केंद्र में सत्तासीन वीपी सिंह सरकार से समर्थन वापस ले लिया, जिसमें लालू प्रसाद यादव भी साझीदार थे, और सरकार गिर गई.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement