NDTV Khabar

सरकारी योजनाओं में आधार : '30 सितंबर को तीन महीने के लिए बढ़ा दी जाएगी समय सीमा'

आधार की वैधता को चुनौती के संदर्भ में सुनवाई सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 24 अगस्त को घोषित उस फैसले के अगले कदम के रूप में होगी, जिसमें उसने निजता के अधिकार को मूल अधिकार माना है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सरकारी योजनाओं में आधार :  '30 सितंबर को तीन महीने के लिए बढ़ा दी जाएगी समय सीमा'
नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि लाभ पाने के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं से आधार को जोड़ने की अंतिम तारीख बढ़ाकर 31 दिसंबर कर दी गई है. प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अमिताव रॉय और न्यायमूर्ति एएम खानविलकर ने कहा कि आधार योजना की संवैधानिक वैधता को चुनौती पर सुनवाई नवंबर के पहले सप्ताह में की जाएगी. महान्यायवादी केके वेणुगोपाल ने न्यायालय को बताया कि मौजूदा समय सीमा 30 सितंबर को तीन महीने के लिए बढ़ा दी जाएगी. वेणुगोपाल ने यह बयान याचिकाकर्ताओं की ओर से शीर्ष अदालत में पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान के यह कहने के बाद दिया कि यदि सरकार समय सीमा बढ़ाने के लिए तैयार है तो मामले की सुनवाई नवंबर में की जा सकती है. आधार की वैधता को चुनौती के संदर्भ में सुनवाई सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 24 अगस्त को घोषित उस फैसले के अगले कदम के रूप में होगी, जिसमें उसने निजता के अधिकार को मूल अधिकार माना है. 

यहां तक कि निजता के अधिकार को लेकर नौ न्यायाधीशों की पीठ द्वारा की गई सुनवाई में स्पष्ट कर दिया गया था कि पीठ इसके सही साबित होने के आधार पर या 1954 में आठ न्यायाधीशों की पीठ या 1962 में छह न्यायाधीशों की पीठ द्वारा लिए गए फैसले के संदर्भ में करेगी, जिसमें कहा गया था कि निजता का अधिकार मौलिक अधिकार नहीं है. 

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें : ध्यान दें : आधार नंबर से पैन लिंक करने की आखिरी तारीख 31 अगस्त ही, नहीं बढ़ेगी डेडलाइन

न्यायालय ने कहा था कि इसके द्वारा यह फैसला कर लिए जाने के बाद कि निजता का अधिकार मूल अधिकार है या नहीं है, इसके बाद फिर नियमित पीठ आधार योजना को मिली चुनौती को निजता के अधिकार के उल्लंघन के रूप में जांचेगी. 
VIDEO: आधार लिंकिंग की मियाद

नौ सदस्यीय पीठ का हिस्सा रहे न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन ने अपने फैसले में कहा था कि निजता के उल्लंघन को लेकर आधार को दी गई चुनौती का फैसला तीन न्यायाधीशों की मूल पीठ मूल अधिकार के रूप में निजता के अधिकार पर विचार करते हुए करेगी. न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर, न्यायमूर्ति एसए बोबडे और न्यायमूर्ति सी नागप्पन की शीर्ष अदालत की पीठ ने 11 अगस्त, 2015 को इस मामले को बड़ी पीठ को इस सवाल के साथ भेज दिया कि निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं.  (IANS की रिपोर्ट)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement