NDTV Khabar

RJD की रैली में तेजस्‍वी यादव बोले- नीतीश कुमार अच्छे 'चाचा' नहीं हैं

दरअसल वह नीतीश कुमार के 2013 में बीजेपी का साथ छोड़ने और अब फिर से हाथ मिलाने के फैसले पर निशाना साध रहे थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
RJD की रैली में तेजस्‍वी यादव बोले- नीतीश कुमार अच्छे 'चाचा' नहीं हैं

पटना के गांधी मैदान में रविवार को रैली के दौरान बोलते तेजस्वी यादव.

खास बातें

  1. राजद की भाजपा भगाओ-देश बचाओ रैली
  2. जदयू के बागी नेता शरद यादव भी पहुंचे
  3. जदयू ने शरद यादव को जाने से मना किया था
पटना:

राजद की रैली में पार्टी नेता तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ हाथ मिलाने के फैसले पर तंज कसते हुए सवालिया लहजे में पूछा कि अब नीतीश की अंतरात्‍मा कहां गई? दरअसल वह नीतीश कुमार के 2013 में बीजेपी का साथ छोड़ने और अब फिर से हाथ मिलाने के फैसले पर निशाना साध रहे थे. नीतीश कुमार ने हाल में महागठबंधन का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ दोबारा नाता जोड़ा है. इस बीच लालू प्रसाद यादव की राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) की 'बीजेपी भगाओ-देश बचाओ' रैली में शिरकत करने के लिए सपा नेता अखिलेश यादव, जदयू के बागी नेता शरद यादव, टीएमसी नेता ममता बनर्जी समेत कई विपक्षी दलों के नेता पहुंचे हैं.

तेजस्वी बोले- जदयू शरद चाचा का है: रैली में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि नीतीश हमारे चाचा थे और रहेंगे परंतु वे अच्छा 'चाचा' नहीं हैं. उन्होंने नीतीश के जनता दल (युनाइटेड) को नकली जद (यू) बताते हुए कहा कि असली जद (यू) शरद चाचा का है. तेजस्वी ने आगे कहा, 'नीतीश जी हमारा साथ छोड़कर भले ही चले गए, लेकिन महागठबंधन टूटा नहीं है. असली जद (यू) के नेता हमारे चाचा शरद यादव हैं. हमारे चाचा नीतीश जी की आज से उल्टी गिनती शुरू हो गई है.'


उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए युवाओं से कहा, 'आप लोग जो 'हर-हर मोदी, घर-घर मोदी' का नारा लगाते थे, वो 'बड़-बड़ मोदी और गड़बड़ मोदी' हैं.' उन्होंने कहा, "हमारे प्रिय चाचा नीतीश जी और बीजेपी की आज से उल्टी गिनती शुरू हो गई." 

उन्होंने कहा, "आप सब लोग जानते हैं कि चाचा नीतीश ने कहा था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मुक्त भारत बनाएंगे, लेकिन आज संघ की गोदी में जाकर बैठ गए. 'हे राम' की जगह 'जयश्रीराम' कहने लगे. गांधी जी के हत्यारों के साथ जा मिले."

पढ़ें: लालू यादव की 7 रैलियों के अनोखे नाम, कभी 'लाठी' तो कभी 'चेतावनी' रैली...

जदयू ने कसा तंज
इस रैली में कांग्रेस की तरफ से गुलाम नबी नबी आजा़ाद, बिहार प्रभारी सीपी जोशी, हनुमंता राव उपस्थित हैं. इस दौरान गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यह रैली सफल होगी. पटना के गांधी मैदान में आयोजित इस रैली में करीब 15-16 राजनीतिक दल हिस्सा ले रहे हैं. हालांकि राजद की रैली में कांग्रेस के शीर्ष नेता सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी और बसपा प्रमुख मायावती के भाग नहीं लेने से विपक्षी एकता के प्रयास पर सवालिया निशान लगने लगे हैं तथा जदयू ने इसे लेकर तंज भी किया है.

पढ़ें:जदयू के बागी नेता शरद यादव को मिला धमकी भरा पत्र, चेताया- बिहार सरकार के खिलाफ न बोलें


हालांकि विपक्ष ने दावा किया है कि इस रैली से विपक्ष, भाजपा के खिलाफ नये सिरे से बिगुल फूंकेगा. इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल शनिवार को नार्वे की राजधानी ओस्लो के लिए रवाना हो गये. बताया जाता है कि सोनिया स्वास्थ्य कारणों से बाहर के कार्यक्रमों में प्राय: नहीं जा रही हैं. मायावती ने पहले ही इस रैली से अलग रहने की घोषणा कर दी है.

टिप्पणियां

शरद होंगे जदयू से बाहर
इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि जनता दल यूनाइटेड(जदयू) के संस्थापक शरद यादव की रविवार को पार्टी से औपचारिक विदाई की जाएगी. शरद यादव ने जिन्होंने खुद पिछले दिनों एक सभा में कहा था कि उन्हें अपने घर से बेदख़ल किया जा रहा हैं, अपने खिलाफ कार्रवाई के लिए मन से तैयार बैठे हैं. शरद यादव रविवार को जैसे ही राजद की पटना के गांधी मैदान में जन सभा को संबोधित करेंगे, उन्हें पार्टी से बाहर निकालने का आदेश जारी किया जाएगा. इसके बाद आने वाले दिनों में पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण उनकी सदस्यता रद्द ने की औपचारिक कार्रवाई शुरू की जाएगी. हालांकि शरद यादव ने साफ़ किया कि असल जनता दल यूनाइटेड उनके साथ है और पार्टी महासचिव केसी त्यागी के इस रैली में भाग नहीं लेने के आग्रह को वो ज़्यादा तरजीह नहीं देते.

VIDEO: सत्‍ता के लालची हैं नीतीश: लालू यादव
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement