NDTV Khabar

पीएम मोदी ने कहा, ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से सार्थक नतीजे की उम्मीद

प्रधानमंत्री ने कहा कि ब्रिक्स ने वैश्विक चुनौतियों का सामना करने में और विश्व में शांति तथा सुरक्षा बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी ने कहा, ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से सार्थक नतीजे की उम्मीद

पीएम नरेंद्र मोदी की फाइल तस्वीर

खास बातें

  1. ब्रिक्स सम्मेलन की शुरुआत चीन के शियामेन में हो रही है
  2. ब्रिक्स देशों की साझेदारी को भारत काफी महत्व देता है: पीएम मोदी
  3. पीएम मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के बाद म्यांमार की यात्रा पर भी जाएंगे
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि चीन में होने वाले ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान रचनात्मक चर्चा और सकारात्मक नतीजे को लेकर वह उत्सुक हैं. ब्रिक्स सम्मेलन की शुरुआत चीन के शियामेन में हो रही है. प्रधानमंत्री ने कहा, 'भारत शांति और विकास के लिए ब्रिक्स देशों की साझेदारी को काफी महत्व देता है. ब्रिक्स ने वैश्विक चुनौतियों का सामना करने में और विश्व शांति और सुरक्षा बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.' उन्होंने कहा कि इसे (ब्रिक्स सम्मलेन को) शांति और सुरक्षा को बरकरार रखने और वैश्विक चुनौतियों का निवारण करने में महत्वपूर्ण योगदान देना है. फेसबुक और ट्विटर पर पोस्ट किए गए बयान में पीएम मोदी ने ब्रिक्स सम्मेलन के बाद म्यांमार यात्रा का भी जिक्र किया और आशा जताई कि इससे द्विपक्षीय संबंध और गहरे होंगे. प्रधानमंत्री ब्रिक्स सम्मेलन के लिए 3 से 5 सितंबर के बीच चीन में रहेंगे और उसके बाद वह 5 से 7 सितंबर के बीच म्यांमार में रहेंगे.

यह भी पढ़ें: ब्रिक्स सम्मेलन में पाकिस्तान के आतंकवाद विरोधी रिकॉर्ड पर चर्चा के खिलाफ है चीन

प्रधानमंत्री ने कहा, 'मैं गोवा शिखर सम्मेलन के नतीजों के आधार पर आगे बढ़ने को उत्सुक हूं. मैं रचनात्मक चर्चा और सकारात्मक नतीजे के प्रति भी उत्सुक हूं, जो चीन की अध्यक्षता में मजबूत ब्रिक्स भागीदारी के एजेंडा का समर्थन करेगा. प्रधानमंत्री ने कहा, 'हम पांचों देशों के उद्योगों के प्रमुखों द्वारा आयोजित ब्रिक्स व्यापार परिषद से भी संवाद करेंगे. इसके अलावा मैं 7 सितंबर को चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अध्यक्षता में आयोजित उभरते बाजार एवं विकासशील देशों की वार्ता कार्यक्रम में ब्रिक्स देशों के अलावा नौ अन्य देशों के नेताओं के साथ शामिल होऊंगा.' पीएम मोदी ने कहा कि वह सम्मेलन के इतर नेताओं से द्विपक्षीय वार्ता भी करेंगे. पीएम मोदी सम्मेलन से इतर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से भी मुलाकात कर सकते हैं. यह मुलाकात डोकलाम विवाद समाप्त होने के कुछ दिन बाद हो रही है. ढाई माह तक चले डोकलाम विवाद की वजह से दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने आ गई थी.

VIDEO: भारत-चीन के बीच डोकलाम विवाद सुलझा
एक अन्य पोस्ट में मोदी ने म्यांमार दौरे का जिक्र किया और कहा कि दौरे के दौरान दोनों देशों के नेता द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करेंगे.प्रधानमंत्री ने कहा कि वह प्रसिद्ध विरासत शहर बगान का दौरा करने को लेकर उत्सुक हैं जहां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने आनंद मंदिर का पुनर्निमाण किया है. उन्होंने कहा, 'मैं अपने दौरे की समाप्ति यंगून में करूंगा. यहां मैं कई ऐतिहासिक जगहों का दौरा करूंगा जो कि भारत-म्यांमार के विरासत को प्रदर्शित करता है. मैं म्यांमार में भारतीय मूल के लोगों से भी मुलाकात एवं बातचीत करने का इच्छुक हूं.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement