बीजेपी के साथ टकराव के बीच ममता बनर्जी ने शरद पवार से की बात

"केंद्र सरकार सरकारी अधिकारियों को अपनी मर्जी से वापस ले रही है और राज्य के अधिकारों का उल्लंघन कर रही है. भाजपा जिस तरह से केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है वह सही नहीं है."

बीजेपी के साथ टकराव के बीच ममता बनर्जी ने शरद पवार से की बात

कोलकाता:

महाराष्ट्र के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, 'पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने सोमवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से बात की और केंद्र सरकार द्वारा विपक्ष शासित राज्यों को अस्थिर करने के प्रयासों पर चर्चा की.' शरद पवार की पार्टी एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Mallik) ने बताया कि ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि बंगाल चुनाव से पहले केंद्र सरकार उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. खास तौर पर बीजेपी नेता जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के बाद  तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को दिल्ली रिपोर्ट करने के संदर्भ में. 

नवाब मलिक ने संवाददाताओं से कहा, "शरद पवार और ममता बनर्जी ने चर्चा की कि कैसे भाजपा बंगाल को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है, केंद्र सरकार सरकारी अधिकारियों को अपनी मर्जी से वापस ले रही है और राज्य के अधिकारों का उल्लंघन कर रही है. भाजपा जिस तरह से केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है वह सही नहीं है."

यह भी पढ़ें- ममता बनर्जी बीरभूम में करेंगी जवाबी रोड शो, शाह की अगुवाई में BJP ने दिखाई थी ताकत

उन्होंने कहा, "ममता बनर्जी और शरद पवार अन्य राष्ट्रीय नेताओं के साथ भी बैठक करेंगे.  अगर जरूरत पड़ी तो पवार बंगाल जाएंगे." बंगाल में चुनाव से 4 महीने पहले  ममता बनर्जी ने बीजेपी पर किसी भी सत्ता में आने की कोशिश करने और उनकी सरकार व पार्टी को कमजोर करने का आरोप लगाया. 

“भाजपा एक धोखाबाज़'पार्टी है, राजनीति के लिए वे कुछ भी कर सकते हैं.  भाजपा की राजनीति यह है कि राजनीति के लिए वे कुछ भी कह सकते हैं, झूठ का सारा कचरा उनके पास है." मुख्यमंत्री ने आज एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, दो दिन पहले उनकी पार्टी के कुछ 35 विद्रोही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की रैली में भाजपा में शामिल हो गए थे. 

पत्नी ने जॉइन की TMC तो मीडिया के सामने रो पड़े BJP MP सौमित्र खान, बोले- 'रिश्ता खत्म'

ममता बनर्जी ने अब तक 10 दिसंबर को तृणमूल समर्थकों द्वारा भाजपा प्रमुख के काफिले पर हमले को लेकर केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली जाने का आदेश देने वाले तीन भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारियों को भेजने से इनकार कर दिया है.  भाजपा ने आरोप लगाया था कि उसके नेता घायल हो गए और घटना में कारें क्षतिग्रस्त हो गईं.  हमले के बाद बंगाल के शीर्ष प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को तलब किया गया था. 


बंगाल ने दो सम्मन को रद्द करने के बाद, पिछले सप्ताह केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मुख्य सचिव और पुलिस प्रमुख के साथ एक आभासी बैठक के लिए सहमति व्यक्त की और राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति पर चिंता व्यक्त की.  ममता बनर्जी ने कहा, "क्या बंगाल में कोई सुपर इमरजेंसी या आपातकाल है? क्या उन्होंने अभी तक बंगाल में आपातकाल की घोषणा की है? फिर इसे केवल बंगाल में ही लागू किया जाएगा? चुनाव आ रहे हैं? वे अधिकारियों को डराना चाहते हैं. "

ममता बनर्जी पर बरसे अमित शाह, हिंसा का जवाब लोकतांत्रिक तरीके से देंगे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com