राफेल घोटाले पर फिर बरसी कांग्रेस, कहा- मनोहर पर्रिकर को सब कुछ पता था, उनकी चुप्पी देश के साथ धोखा

राफेल करार (Rafale Deal) में चुप्पी साधने का आरोप लगाकर कांग्रेस ने गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर (Manohar Parrikar) पर जमकर निशाना साधा.

राफेल घोटाले पर फिर बरसी कांग्रेस, कहा- मनोहर पर्रिकर को सब कुछ पता था, उनकी चुप्पी देश के साथ धोखा

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने मनोहर पर्रिकर पर साधा निशाना
  • राफेल डील में नियमों के उल्लंघन की जानकारी होने का लगाया आरोप
  • 2016 में जब फ्रांस से राफेल करार हुआ था तब रक्षामंत्री थे पर्रिकर
पणजी:

राफेल करार (Rafale Deal) में चुप्पी साधने का आरोप लगाकर कांग्रेस ने गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर (Manohar Parrikar) पर जमकर निशाना साधा. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पर्रिकर को फ्रांसीसी सैन्य विमान खरीद के संबंध में कई नियमों का उल्लंघन किए जाने के बारे में पता था. कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने पार्टी मुख्यालय में मीडिया को संबोधित करते हुए पूछा कि 'यह कैसे हो सकता है कि पर्रिकर के रक्षामंत्री होने के बावजूद उन्हें यह न पता रहा हो कि एक सौदे पर बात हुई है. हस्ताक्षर हुए हैं और इस पर सहमतियां बनीं हैं.'

यह भी पढ़ें : राफेल सौदे पर पी. चिदंबरम का सवाल- क्या कोई बताएगा कि कीमतों में तीन गुनी वृद्धि क्यों हुई?

प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा, 'एक रक्षामंत्री जो रक्षा पर मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीएस) के नियमों के उल्लंघन, प्रौद्योगिकियों के हस्तांतरण और रक्षा खरीद प्रक्रिया में नियमों के उल्लंघन के बारे में जानता है, लगातार अपनी चुप्पी बनाए हुए है और मामले में कुछ भी नहीं बोलने का रास्ता चुने हुए है.' उन्होंने कहा, 'इसलिए उनकी चुप्पी देश को धोखा देने वाले इस समझौते के तहत एक साजिश है.'

यह भी पढ़ें :PM मोदी को राहुल गांधी ने राफेल मुद्दे पर दी बहस की चुनौती, BJP ने दिया यह जवाब...
 

priyanka chaturvedi 650
कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने राफेल मुद्दे को लेकर मनोहर पर्रिकर पर जमकर निशाना साधा.

उन्होंने कहा, 'यहां एक रक्षामंत्री हैं, जिन्होंने समझौते पर हस्ताक्षर होने से कुछ दिन पहले ऑन रिकार्ड कहा था कि समझौते की कुछ शर्तो में बदलाव असंभव है. लेकिन, आपको पता था कि ये वे वही क्लॉज थे, जिनपर फ्रांस में समझौता हुआ.' चतुर्वेदी ने कहा, 'और, देश ने देखा कि कैसे पर्रिकर ने जवाब देने के बदले तथ्यों को छुपाया. यह सभी जानते हैं कि वह खुद इसके लिए तैयार नहीं थे.' 

VIDEO : क्या नियमों को तोड़कर राफेल डील में बदलाव?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने सितंबर 2016 में मनोहर पर्रिकर के रक्षामंत्री रहते राफेल करार पर समझौता किया था. कांग्रेस राफेल डील को लेकर शुरुआत से ही मोदी सरकार पर हमलावर है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस मुद्दे पर लगातार निशाना साधते रहे हैं.

(इनपुट: IANS)