मथुरा कृष्ण जन्मभूमि विवाद मामला : जिला अदालत ने 10 दिसंबर तक टाली सुनवाई

मथुरा जिला अदालत ने मथुरा कृष्ण जन्मभूमि (Mathura Krishna Janmabhoomi) विवाद मामले में सुनवाई 10 दिसंबर तक टाल दी है.

मथुरा कृष्ण जन्मभूमि विवाद मामला : जिला अदालत ने 10 दिसंबर तक टाली सुनवाई

केस की अगली सुनवाई 10 दिसंबर को होगी. (फाइल फोटो)

मथुरा:

मथुरा जिला अदालत ने मथुरा कृष्ण जन्मभूमि (Mathura Krishna Janmabhoomi) विवाद मामले में सुनवाई 10 दिसंबर तक टाल दी है. कोर्ट की तरफ से जारी नोटिस का जवाब दाखिल करने के लिये ट्रस्ट मस्जिद ईदगाह कमेटी, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड और श्रीकृष्ण जन्मभूमि सेवा संघ ने समय मांगा था. दरअसल जिला जज मथुरा की कोर्ट ने श्रीकृष्ण विराजमान समेत 8 याचिकाकर्ताओं की अर्जी को सुनवाई के लिए स्वीकार किया है. जिला जज मथुरा की कोर्ट ने पक्षकारों को नोटिस जारी किया था. जिनको नोटिस जारी किया गया है, उनमें सुन्नी वक्फ बोर्ड, ईदगाह मस्जिद ट्रस्ट शामिल हैं. याचिका में सिविल कोर्ट के आदेश को चुनौती दी है.

इससे पहले सिविल कोर्ट ने भगवान की तरफ से दाखिल याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि विश्व में भगवान कृष्ण के असंख्य भक्त हैं. हर श्रद्धालु याचिका करने लगे तो न्याय व्यवस्था चरमरा जाएगी. रामलला विराजमान के बाद अब श्रीकृष्ण विराजमान की ओर से भी मथुरा की अदालत में एक सिविल मुकदमा दायर किया गया है. इसमें 13.37 एकड़ की कृष्ण जन्मभूमि भूमि का स्वामित्व मांगा है और शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने की मांग की गई है. ये वाद भगवान श्रीकृष्ण विराजमान, कटरा केशव देव खेवट, मौजा मथुरा बाजार शहर के रूप में जो अगली मित्र, रंजना अग्निहोत्री और 6 अन्य भक्तों ने दाखिल किया है.

वृन्दावन के बांकेबिहारी मंदिर को खोलने के लिए अदालत में याचिका

हालांकि प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 इस मामले के आड़े आ रहा है, जिसमें विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुकदमेबाजी को लेकर मालकिना हक पर मुकदमे में छूट दी गई थी, लेकिन मथुरा काशी समेत सभी विवादों पर मुकदमेबाजी से रोक दिया था. इस एक्ट में कहा गया है कि 15 अगस्त, 1947 को जो धार्मिक स्थल जिस संप्रदाय का था वो आज, और भविष्य में, भी उसी का रहेगा. पिछले साल 9 नवंबर को अयोध्या पर फैसला सुनाते हुए SC की पांच जजों की बेंच ने ऐसे मामलों में काशी मथुरा समेत देश में नई मुकदमेबाजी के लिए दरवाजा बंद कर दिया था.

इस संबंध में वकील विष्णु शंकर जैन के माध्यम से हिंदू समूह ने पहले ही सुप्रीम कोर्ट में कानून की वैधता को चुनौती दी है, लेकिन अयोध्या मामले में SC ने कहा था कि अदालतें ऐतिहासिक गलतियां नहीं सुधार सकतीं. अगली मित्र रंजना अग्निहोत्री के माध्यम से श्रीकृष्ण विराजमान द्वारा दायर हालिया वाद में कहा गया है कि यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड, ट्रस्ट मस्जिद ईदगाह या मुस्लिम समुदाय के किसी भी सदस्य को कटरा केशव देव की संपत्ति में कोई दिलचस्पी या अधिकार नहीं है. ये देवता भगवान श्रीकृष्ण विराजमान में निहित हैं.

श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मालिकाना हक़ के मामले में याचिका स्वीकार, सुन्नी वक्फ बोर्ड समेत सभी पक्षों को नोटिस

इतिहासकार जदुनाथ सरकार के हवाले से जगह के इतिहास का पता लगाते हुए वादी ने कहा है कि 1669-70 में औरंगजेब ने कटरा केशवदेव स्थित भगवान कृष्ण के जन्म के श्रीकृष्ण मंदिर को ध्वस्त कर दिया था और एक संरचना बनाई गई थी और इसे ईदगाह मस्जिद कहा गया था. एक सौ साल बाद, मराठों ने गोवर्धन की लड़ाई जीत ली और आगरा और मथुरा के पूरे क्षेत्र के शासक बन गए. मराठों ने मस्जिद की तथाकथित संरचना को हटाने के बाद कटरा केशवदेव में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म स्थान का विकास और जीर्णोद्धार किया.

मुकदमे में कहा गया है कि मराठों ने आगरा और मथुरा की भूमि को नजूल भूमि घोषित किया और 1803 में मथुरा को घेरने के बाद अंग्रेजों ने उसी तरह से भूमि का उपचार जारी रखा. 1815 में ब्रिटिश ने 13.37 एकड़ जमीन की नीलामी की और इसे बनारस के राजा पाटनी मल द्वारा खरीदा गया था, जो जमीन के मालिक बन गए. 1921 में एक सिविल कोर्ट ने मुसलमानों द्वारा जमीन पर दावा करने के एक सूट को खारिज कर दिया था. फरवरी 1944 में राजा पाटनी मल के वारिसों ने 13.37 एकड़ जमीन पंडित मदन मोहन मालवीय, गोस्वामी गणेश दत्त और भीकन लालजी आत्रे को 19,400 रुपये में बेच दी, जिसका भुगतान जुगल किशोर बिड़ला ने किया था.

श्रीकृष्ण जन्मभूमि विवाद मामला फिर पहुंचा कोर्ट, याचिका में सिविल कोर्ट के आदेश को दी गई चुनौती

उन्होंने मार्च 1951 में एक ट्रस्ट बनाया, जिसमें विशेष रूप से उल्लेख किया गया था कि पूरी 13.37 एकड़ जमीन ट्रस्ट में निहित होगी और यह एक शानदार मंदिर का निर्माण करेगी. अक्टूबर 1968 में, श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संघ और शाही मस्जिद ईदगाह सोसाइटी के बीच एक समझौता किया गया, भले ही सोसाइटी के पास भूमि पर कोई स्वामित्व नहीं था. सूट के अनुसार, सोसाइटी ने देवता और भक्तों के हित के खिलाफ ट्रस्ट मस्जिद ईदगाह की कुछ मांगों को स्वीकार कर लिया. जुलाई 1973 में, मथुरा के सिविल जज ने समझौता के आधार पर एक लंबित मुकदमे का फैसला किया और मौजूदा संरचनाओं के किसी भी परिवर्तन पर रोक लगा दी.

अगले मित्र के माध्यम से देवता द्वारा दायर मुकदमे में मस्जिद को हटाने और कथित अतिक्रमण को रोकने के लिए डिक्री को रद्द करने की मांग की गई है. भूमि को श्रीकृष्ण जन्मभूमि कहा जाता है. मुकदमे में यह भी दावा किया गया कि देवता के साथ जन्म स्थान (जन्मभूमि) एक न्यायिक व्यक्ति है. अयोध्या के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने रामलला को एक न्यायिक व्यक्ति के रूप में स्वीकार किया था, लेकिन फैसला सुनाया था कि 'राम जन्मभूमि' को न्यायिक कद नहीं दिया जा सकता.

Newsbeep

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : मंदिर के अहाते में इजाजत से नमाज पढ़ना सांप्रदायिक नफरत कैसे?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com