Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

मानसून बीता : सामान्य से कम हुई बारिश, कृषि उत्पादन पर हो सकता है असर

दक्षिण-पश्चिम मानसून दीर्घावधि के औसत का 95 फीसदी कम रहा, देश में कहीं बाढ़ आई तो कहीं पानी को तरसीं फसलें

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मानसून बीता : सामान्य से कम हुई बारिश, कृषि उत्पादन पर हो सकता है असर

देश में मानसून की बारिश सामान्य से कम हुई, जिसका कृषि उत्पादन पर असर पड़ने की आशंका है.

खास बातें

  1. एलपीए की 96-104 फीसदी तक बारिश को माना जाता है सामान्य वर्षा
  2. शुरुआती दो माह में सामान्य से तीन फीसदी ज्यादा बारिश हुई
  3. बाद के दो महीनों में बारिश में 12.5 फीसदी की कमी दर्ज की गई
नई दिल्ली:

देश में मानसून का मौसम बीत गया. मानसून की बारिश औसत से कम हुई. मानसून सामान्य से कम रहा जबकि जून में मानसूनी बारिश सामान्य या औसत से अधिक होने की आशा जताई गई थी. मानसूनी बारिश ने देश के कई हिस्सों में कहर ढाया और पूर्वोत्तर, बिहार, राजस्थान, यूपी और गुजरात आदि राज्यों को बाढ़ से तबाही का सामना करना पड़ा. जबकि अन्य राज्यों में कहीं सामान्य तो कहीं सामान्य से कम बारिश हुई.

इस साल मानसून की बारिश में निरंतरता भी नहीं रही. कई राज्यों में शुरुआती दिनों में अच्छी बारिश हुई लेकिन बाद में लंबे समय तक बादल मुंह मोड़े रहे. इससे जरूरत के मुताबिक समय पर पानी न मिलने से फसलें बर्बाद भी हुईं. नदियों में भीषण बाढ़ ने भी फसलों को बर्बाद किया. इन हालात में कृषि उत्पादन भी अपेक्षा के अनुरूप नहीं होने की आशंका है.              

यह भी पढ़ें : मौसम विभाग को उम्मीद, देश के एक-चौथाई हिस्से में मेहरबान होगी बारिश


पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन के मुताबिक इस साल दक्षिण-पश्चिम मानसून सामान्य से कम था. उनका कहना है कि देश के कुछ हिस्सों में कृषि क्षेत्र पर इसका असर पड़ सकता है.

यह भी पढ़ें : अच्छी खबर... इस बार मॉनसून में जमकर होगी बरसात, 98 फीसदी बारिश का अनुमान

राजीवन ने कहा, मानसून दीर्घावधि (एलपीए) के औसत का 95 फीसदी था, जो सामान्य से कम है. एलपीए के 96-104 फीसदी तक बारिश को सामान्य बारिश माना जाता है.

टिप्पणियां

VIDEO : मई के अंत में दी थी मानसून ने दस्तक

मानसून के आगमन से पूर्व भारतीय मौसम विभाग ने भविष्यवाणी करते हुए मानसून को एलपीए का 96 फीसदी करार दिया था. हालांकि बाद में इसे संशोधित कर जून में 98 फीसदी कर दिया गया. राजीवन ने कहा, मानसून के मौसम के पहले दो महीनों में जहां सामान्य से तीन फीसदी ज्यादा बारिश हुई थी वहीं बाकी के दो महीनों में इसमें 12.5 फीसदी की कमी दर्ज की गई. भारत में बारिश का मौसम एक जून से शुरू होता है और 30 सितंबर तक चलता है. यही मानसून का सीजन होता है.
(इनपुट एजेंसियों से भी)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... स्‍कूल छोड़ने जा रही थी मां, रास्‍ते में याद आया बच्‍चे तो घर पर ही छूट गए, देखें मजेदार Video

Advertisement