विभाग बदले जाने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू का आया बयान, CM अमरिंदर के बारे में कही यह बात...

नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मंत्रिमंडल की बैठक में भाग नहीं लिया और आरोप लगाया कि उन्हें निशाना बनाया जा रहा है.

विभाग बदले जाने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू का आया बयान, CM अमरिंदर के बारे में कही यह बात...

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू.

चंडीगढ़:

पंजाब में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) द्वारा नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का विभाग बदले जाने के साथ राज्य में पार्टी के भीतर दरार और गहरी हो गई. साथ ही सिद्धू मंत्रिमंडल की बैठक में भी शामिल नहीं हुए. अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) और नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के बीच चल रहे टकराव के बीच तेजी से बदले घटनाक्रम में सिद्धू ने मंत्रिमंडल की बैठक में भाग नहीं लिया और आरोप लगाया कि उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. सिद्धू ने कहा, 'मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता. 'मेरे विभाग पर सार्वजनिक रूप से निशाना साधा जा रहा है. मैंने हमेशा उन्हें बड़े भाई की तरह सम्मान दिया है. मैं हमेशा उनकी बात सुनता हूं, लेकिन इससे दुख पहुंचता है. सामूहिक जिम्मेदारी कहां गई?'

यह भी पढ़ें: पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने बदला नवजोत सिंह सिद्धू का विभाग, स्थानीय निकाय की जगह मिला यह मंत्रालय

बता दें कि पंजाब कैबिनेट में फेरबदल में सिद्धू से महत्वपूर्ण स्थानीय शासन विभाग ले लिया गया और उन्हें बिजली तथा नई एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग का प्रभार दिया गया है. हालांकि, सिद्धू ने कहा कि उन्होंने हमेशा से अच्छा प्रदर्शन किया है और दावा किया कि पंजाब में पार्टी की जीत में शहरी इलाकों ने अहम भूमिका निभाई. सिद्धू ने कहा, 'मुझे हल्के में नहीं लिया जा सकता. मैंने अपने जीवन में 40 साल तक अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया है, चाहे वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट हो या ज्योफ्री बॉयकाट के साथ विश्वस्तरीय कमेंट्री हो, टीवी कार्यक्रम हो या 1300 प्रेरक वार्ताओं का मामला हो.'

यह भी पढ़ें: CM अमरिंदर सिंह आधा सच बोल रहे, मैं बोल रहा पूरा सच: नवजोत सिंह सिद्धू

पंजाब के शहरी इलाकों में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के 'खराब प्रदर्शन' को लेकर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की नाराजगी का सामना कर रहे सिद्धू चुनाव के बाद गुरुवार को हुई पहली कैबिनेट बैठक में शामिल नहीं हुए. सिद्धू ने कहा कि वह अपने नाम, विश्वसनीयता और प्रदर्शन का 'पूरी तरह से' बचाव करेंगे. उन्होंने कहा, 'हर कोई मुझसे पूछ रहा है कि मैं कैबिनेट की बैठक में क्यों नहीं गया. जब आप कैबिनेट मंत्री बनते हैं तो शपथ दिलाई जाती है और उसके बाद कहा जाता है कि यह एक सामूहिक जिम्मेदारी है. मैं राजनीति विज्ञान का छात्र रहा हूं और यह पढ़ाया जाता है कि नियम यह है कि हम साथ चलेंगे और साथ डूबेंगे.' हालिया आम चुनाव में कांग्रेस ने पंजाब की 13 में से आठ सीटों पर जीत हासिल की थी. शिअद-भाजपा गठबंधन को चार और आप को एक सीट मिली थी.

VIDEO: सिद्धू के खिलाफ कैप्टन का डॉजियर तैयार

(इनपुट: भाषा)  

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com