NEET Results 2020: ओडिशा के शोएब और दिल्ली की आकांक्षा ने NEET में किया टॉप, हासिल किए 720 में से 720 नंबर

इस साल NEET परीक्षा में शोएब आफताब (Shoyeb Aftab) ने 720 में से 720 अंक लाकर टॉप किया है. बता दें, शोएब आफताब परीक्षा में टॉप करने वाले अकेले नहीं है. दिल्ली की आकांक्षा सिंह ने नीट की परीक्षा में 720 में 720 अंक हासिल किए हैं. इस साल टॉप- 5 टॉपर्स ने तीन लड़कियों ने अपनी जगह बनाई है.

NEET Results 2020: ओडिशा के शोएब और दिल्ली की आकांक्षा ने NEET में किया टॉप, हासिल किए 720 में से 720 नंबर

ओडिशा के राउरकेला के आफताब कार्डियेक सर्जन बनना चाहते हैं.

नई दिल्ली / कोटा:

NEET परीक्षा 2020 के नतीजे आ चुके हैं. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने नीट 2020 परीक्षा (NEET Exam Results 2020) का रिजल्ट जारी कर दिया  है. नीट का रिजल्ट एनटीए की आधिकारिक वेबसाइट  ntaneet.nic.in पर जारी किया गया है.  इस बार कोरोना संकट के बीच हुई परीक्षा का आयोजन प्रशासन और छात्रों दोनों के लिए ही चुनौतीपूर्ण रहा.  रिजल्ट के साथ एनटीए ने फाइनल प्रश्नोत्तर भी जारी कर दिया है.

इस परीक्षा में शोएब आफताब (Shoyeb Aftab) ने 720 में से 720 अंक लाकर टॉप किया है. शोएब ने इसके अलावा दूसरा इतिहास ओड़‍िशा में पहली बार नीट टॉपर बनकर भी रचा है. 100 प्रत‍िशत अंक पाने वाले शोएब के पर‍िजन अपने बेटे की मेहनत और जज्बे से बहुत खुश हैं. वहीं आपको बता दें, शोएब आफताब परीक्षा में टॉप करने वाले अकेले नहीं है. दिल्ली की आकांक्षा सिंह ने नीट की परीक्षा में 720 में 720 अंक हासिल किए हैं. इस साल टॉप- 5 टॉपर्स ने तीन लड़कियों ने अपनी जगह बनाई है.

राजस्थान के कोटा के एलन करियर इंस्टीट्यूट में कोचिंग करने वाले शोएब ने बताया कि जब कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से कोटा से सभी छात्र अपने अपने घर लौट रहे थे. उस वक्त वह अपनी मां और बहन के साथ वहीं डटे रहे और कोटा के एलन कैरियर इंस्टीट्यूट से अपनी कोचिंग कक्षाएं जारी रखीं.  निश्चित रूप से इसका उन्हें लाभ भी मिला क्योंकि शोएब आफताब एक परफेक्ट स्कोर प्राप्त करने में कामयाब रहे और देश में पहली बार एक रिकॉर्ड बनाया.

शोएब आफताब मेडिकल की अपनी पढ़ाई खत्म करने के बाद कार्डियेक सर्जन बनना चाहते हैं.

यह भी पढ़ें- NEET Results: रिजल्ट से पहले जारी हुए थे क्वेश्चन पेपर्स, यहां देखें डायरेक्ट लिंक

फिलहाल टॉपर की लिस्ट अभी एनटीए की ओर से औपचारिक रूप से जारी होना बाकी है.इस परीक्षा के लिए कुल 15.97 लाख उम्मीदवारों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था. इनमें से 85 फीसदी से 90 फीसदी परीक्षार्थियों ने एग्जाम दिया था. इस साल करीब 14.37 लाख से अधिक उम्मीदवार महामारी के बावजूद 13 सितंबर प्रवेश परीक्षा में शामिल हिए थे.  

कंटोनमेंट जोन में होने के चलते जो छात्र परीक्षा नहीं दे पाए थे उनके लिए 14 अक्टूबर को फिर से परीक्षा का आयोजन किय गया था इसलिए रिजल्ट में थोड़ी देरी हो गई. इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले परीक्षार्थियों को देश के सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में संचालित एमबीबीएस व बीडीएस कोर्सेज में एडमिशन मिलेगा. 

यह भी पढ़ें- NEET Result 2020: नीट परीक्षा का रिजल्ट जारी, जानिए चेक करने का तरीका

शिक्षा मंत्री ने नीट के रिजल्ट के बाद खुशी जताई है और कहा है कि विद्यार्थियों के करियर की प्रगति एवं बेहतर भविष्य को सुनिश्चित करने के लिए इन परीक्षाओं का आयोजन बेहद जरूरी था. गौरतलब है कि तमाम विरोध के वाबजूद भी माननीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक' ने NEET का आयोजन करवाया था. विपक्ष ने इसपर राजनीति भी शुरू कर दी थी लेकिन तमाम विरोधो की परवाह किए बगैर अपने निर्णय में अडिग रहकर शिक्षा मंत्री ने NEET का आयोजन करवाया था.  

वैश्विक आपदा कोविड-19 के कारण संपूर्ण विश्व का शैक्षिक एवं अकादमिक जगत व्यापक रूप से प्रभावित हो रहा था और वर्तमान हालात में शीघ्र ही हमें इस बीमारी से निजात मिलती हुई भी दिखाई नहीं दे रही थी. ऐसे में छात्रो के बेहतर भविष्य के लिए इन परीक्षाओं का आयोजन करवाना जरुरी था. वैसे कठिन परिसिथिति में NEET  का आयोजन करवाना कठिन चुनौती भरा काम था.

केंद्रीय मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने एनटीए को परीक्षा के बेहतर संचालन को लेकर बधाई दी है. उन्होंने कहा है कि सभी लोगों के कठिन परिश्रम के चलते परीक्षा का सफल आयोजन और समय पर रिजल्ट जारी हो पाया है. उन्होंनें साफ कहा है कि कोविड महामारी के चलते देशभर में परीक्षा के आयोजन को लेकर माहौल खराब करने की कोशिश की गई थी लेकिन बेहतर संकल्प और इच्छाशक्ति के चलते न केवल छात्रों का एक साल बच गया है बल्कि देश-विदेश में कही भी अध्ययन में छात्रों को बाधा नहीं उत्पन्न होगी. 

उन्होने कहा है सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी परीक्षा के संचालन में प्रशासनिक मदद  की और विपरित परिस्थितियों में सहयोग किया. वही देशभर में लॉकडाउन का पालन करते हुए इस परीक्षा का आयोजन करवाना किसी चुनौती से कम नहीं था. इन परीक्षाओं का आयोजन से जहां छात्रों का एक साल बर्बाद होने से बच गया वही  छात्रों की योग्यता, विश्वसनीयता, छात्रवृत्ति, पुरस्कार, प्लेसमेंट तथा विश्व के किसी भी विश्वविद्यालय में प्रवेश की स्वीकार्यता और बेहतर भविष्य-निर्माण की संभावनाओं अब कोई बाधा नहीं आएगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

परीक्षा केंद्रों पर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ हुई NEET की परीक्षा