भगोड़े नीरव मोदी के भाई पर भी धोखाधड़ी का आरोप, 10 लाख डॉलर से ज्यादा कीमत के हीरे चुराने का मामला

पंजाब नेशनल बैंक घोटाला (PNB Scam) मामले में आरोपी भगोड़े नीरव मोदी (Nirav Modi) का सौतेला भाई नेहल मोदी (Nehal Modi) अब धोखाधड़ी के आरोप में फंस गया है.

भगोड़े नीरव मोदी के भाई पर भी धोखाधड़ी का आरोप, 10 लाख डॉलर से ज्यादा कीमत के हीरे चुराने का मामला

भगोड़े नीरव मोदी का भाई नेहल मोदी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पंजाब नेशनल बैंक घोटाला (PNB Scam) मामले में आरोपी भगोड़े नीरव मोदी (Nirav Modi) का सौतेला भाई नेहल मोदी (Nehal Modi) अब धोखाधड़ी के आरोप में फंस गया है. नेहल मोदी (Nehal Modi) पर अमेरिका में थोक हीरा विक्रेता कंपनी एलएलडी के साथ 1 मिलियन डॉलर से अधिक की धोखाधड़ी का आरोप लगा है. मोदी पर मैनहट्टन में एलएलडी कंपनी से 2.6 मिलियन डॉलर से अधिक मूल्य के हीरे लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट में 'फस्र्ट डिग्री में बड़ी चोरी' का आरोप लगाया गया है. मोदी के खिलाफ केस लड़ रहे मेनहट्टन डिस्ट्रिक्ट के अटॉर्नी वेंश जूनियर ने कहा, "हीरे हमेशा के लिए होते हैं लेकिन यह ठगी की योजना हमेशा नहीं रहेगी. अब नेहल मोदी (Nehal Modi) को न्यूयॉर्क के सुप्रीम कोर्ट में मुकदमे का सामना करना पड़ेगा.

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय की याचिका पर एक विशेष अदालत ने पंजाब नेशनल बैंक से दो अरब अमेरिकी डॉलर की धोखाधड़ी करने के मामले में हीरा कारोबारी नीरव मोदी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी करार दिया था. नीरव मोदी विजय माल्या के बाद दूसरा ऐसा कारोबारी है जिसे नए भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी करार दिया गया है. यह अधिनियम पिछले साल अगस्त में प्रभाव में आया था.

ब्रिटेन की अदालत ने नीरव मोदी की हिरासत अवधि 29 दिसम्बर तक बढ़ाई

मोदी को लेकर डिस्ट्रीक अटॉर्नी के बयान में कहा गया, नेहल मोदी ने 2015 में एलएलडी डायमंड्स यूएसए से संपर्क किया था. उन्होंने झूठा प्रजेंटेश करने के लिए एलएलडी डायमंड्स यूएसए से 2.6 मिलियन डॉलर मूल्य के हीरे लिए. प्रोसीक्यूशन ने कहा कि मार्च 2015 में मोदी ने पहली बार कंपनी से उसे लगभग 8,00,000 डॉलर मूल्य के हीरे देने के लिए कहा और दावा किया कि वह उन्हें कॉस्टको होलसेल कॉर्पोरेशन नाम की कंपनी को संभावित बिक्री के लिए दिखाएगा. कॉस्टको एक चेन है जो अपने सदस्यों के रूप में जुड़ने वाले ग्राहकों को कम कीमत पर हीरे बेचती है. फिर मोदी ने दावा किया कि कॉस्टको हीरे खरीदने के लिए सहमत हो गया है और एलएलडी ने उसे 90 दिनों के भीतर भुगतान करने को कहा.

CBI ने 7,926 करोड़ रूपये के बैंक घोटाले को लेकर हैदराबाद के ट्रांसस्ट्रॉय लिमिटेड पर मामला दर्ज किया


इसके बाद कॉस्टको ने उन हीरों को शॉर्ट टर्म लोन के लिए किसी अन्य कंपनी को दे दिया. इसके बाद फिर से एलएलडी से और हीरे लिए गए. इस दौरान एलएलडी को कुछ भुगतान किया गया लेकिन वह हीरों की रकम से बहुत कम था. बाद में जब तक एलएलडी को पूरी धोखाधड़ी का पता चला, तब तक मोदी सभी हीरों को बेचकर उसका पैसा खर्च कर चुका था. इसके बाद एलएलडी ने मैनहट्टन के प्रोसीक्यूटर के ऑफिस में शिकायत दर्ज कराई.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पर ED की बड़ी कार्रवाई