Nirbhaya Case: दोषी अक्षय की क्यूरेटिव याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

निर्भया रेप और मर्डर (Nirbhaya Case) के दोषियों में शामिल अक्षय सिंह की क्यूरेटिव याचिका पर सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को सुनवाई करेगा. पांच जजों की पीठ इन चेंबर में अक्षय की याचिका पर गुरुवार दोपहर 1 बजे सुनवाई करेगी.

Nirbhaya Case: दोषी अक्षय की क्यूरेटिव याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

निर्भया के दोषियों को 1 फरवरी को होनी है फांसी.

खास बातें

  • अक्षय की क्येरेटिव याचिका पर गुरुवार को सुनवाई
  • पांच जजों की पीठ करेगी मामले की सुनवाई
  • निर्भया के सभी दोषियों को 1 फरवरी को होनी है फांसी
नई दिल्ली:

Nirbhaya Case: निर्भया रेप और मर्डर के दोषियों में शामिल अक्षय सिंह (Akshay Singh) की क्यूरेटिव याचिका पर सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को सुनवाई करेगा. पांच जजों की पीठ इन चेंबर में अक्षय की याचिका पर गुरुवार दोपहर 1 बजे सुनवाई करेगी. जजों की पीठ में जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस रोहिंगटन फली नरीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण शामिल रहेंगे. इससे पहले दोषी मुकेश और विनय की क्यूरेटिव याचिका सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है. इससे पहले दोषी मुकेश को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा था. राष्ट्रपति द्वारा याचिका खारिज किए जाने के खिलाफ लगाई गई याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को खारिज कर दिया.

याचिका खारिज करने पर निर्भया की मां ने कहा, ''हम एक कदम और आगे बढ़ गए, फैसले के करीब बढ़ गए और उम्मीद है कि इनको अब जल्द ही 1 फरवरी को फांसी लग जाएगी. वो लोग तब तक कानूनी खेल खेलेंगे, जब तक फाइनली फांसी नहीं हो जाती है. आज के फैसले से मैं बिल्कुल संतुष्ट हूं, क्योंकि जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट के पास बार-बार फैसला आ रहा है, यह पिटीशन आ रहा है तो सुप्रीम कोर्ट भी देख रहे हैं और हमारा भी सुना, उनका भी सुना. कल फैसला सुरक्षित था. सुप्रीम कोर्ट चाहता है कि मुझे जल्द से जल्द न्याय मिले.''

निर्भया केस: दोषी अक्षय ने SC में दाखिल की क्यूरेटिव याचिका, मुकेश और विनय की पिटीशन कोर्ट पहले ही कर चुका है खारिज

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस आर भानुमति, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए एस बोपन्ना की बेंच ने यह फैसला सुनाया. फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमने खुद को संतुष्ट करने के लिए राष्ट्रपति के पास भेजे गए सारे दस्तावेजों को देखा. गृहमंत्रालय ने सारे दस्तावेज राष्ट्रपति तो भेजे थे. याचिका में कोई मेरिट नहीं है. जेल में प्रताडना दया के लिए कोई आधार नहीं है.

निर्भया केस: किस आधार पर दोषी मुकेश ने दया याचिका खारिज किए जाने के खिलाफ SC में दाखिल की थी अर्जी

बता दें, निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले में दोषी मुकेश कुमार सिंह की दया याचिका खारिज करने के राष्ट्रपति के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सुनवाई पूरी कर ली. वहीं, निर्भया मामले में एक और दोषी अक्षय कुमार सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को क्यूरेटिव याचिका दाखिल की है. सुप्रीम कोर्ट इससे पहले  सुप्रीम कोर्ट दो दोषियों विनय और मुकेश की क्यूरेटिव याचिका को खारिज कर चुका है. 

अनुराग ठाकुर के समर्थन में आए मंत्री, कहा- 'राष्ट्र विरोधियों को गोली नहीं मारेंगे तो क्या बिरयानी खिलाएंगे?'

दिल्ली में 2012 में हुये इस जघन्य अपराध के लिये चार मुजरिमों को अदालत ने मौत की सजा सुनायी थी. इन दोषियों में से एक मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति ने 17 जनवरी को खारिज कर दी थी जिसके खिलाफ इस दोषी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर रखी थी. केन्द्र ने मुकेश कुमार सिंह की याचिका खारिज करने का अनुरोध करते हुये पीठ से कहा कि इस तरह के जघन्य अपराध करने वाले के साथ जेल में दुर्व्यवहार दया का आधार नहीं हो सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: देर से ही सही, फैसले सही हो रहे हैं: निर्भया की मां