NDTV Khabar

अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग, दूसरों के विचार मायने नहीं रखते : रक्षा मंत्री सीतारमण

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है और इस मुद्दे पर दूसरों के विचार भारत के लिए मायने नहीं रखते.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग, दूसरों के विचार मायने नहीं रखते : रक्षा मंत्री सीतारमण

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है
  2. रक्षा मंत्री के अरुणाचल दौरे पर चीन ने दर्ज की थी आपत्ति.
  3. निर्मला सीतारमण विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए गुजरात में हैं.
अहमदाबाद: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है और इस मुद्दे पर दूसरों के विचार भारत के लिए मायने नहीं रखते. बता दें कि कुछ दिन पहले सीतारमण के अरुणाचल दौरे को लेकर चीन ने सवाल उठाए थे. अरुणाचल प्रदेश की उनकी यात्रा पर चीन की ओर से प्रतिक्रिया पर उन्होंने कहा, 'समस्या क्या है ? यहां कोई समस्या नहीं है. यह हमारा क्षेत्र है, हम वहां जाएंगे'

रक्षामंत्री ने कहा कि हमें इस मुद्दे पर किसी और के नजरिए की चिंता नहीं है. बता दें कि सीतारमण ने पांच नवंबर को अरुणाचल प्रदेश के अग्रिम सैन्य चौकी का दौरा किया था. उन्होंने यहां रक्षा तैयारियों और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर स्थिति का जायजा लिया था. चीन ने अगले दिन ही रक्षामंत्री के दौरे पर विरोध जताया था और कहा था कि 'विवादित क्षेत्र' में इस दौरे से सीमा पर शांति नहीं आएगी. चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा मानता है, भारत चीन के इस दावे को कड़ाई से अस्वीकार करता रहा है.

यह भी पढ़ें -रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के अरुणाचल दौरे पर चीन ने जताई आपत्ति, भारत ने कहा - फर्क नहीं पड़ता

चीन और भारत के बीच सबंध में कड़वाहट की वजह दलाईलामा और तिब्बती शरणार्थी होने के सबंध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि सभी मुद्दे का अपना एक 'प्रभाव' होता है. किसी एक मुद्दे पर संबंध बनाए और तोड़े नहीं जा सकते. सभी मुद्दों का अपना एक अलग प्रभाव होता है. रक्षामंत्री आगामी गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए गुजरात में हैं.

संवाददाता सम्मेलन में कुलभूषण जाधव के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि भारत उन्हें वापस लाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है और अगर पाकिस्तान उनकी पत्नी को उनसे मिलने देता है तो यह एक अच्छी मानवीय पहल होगी. आगे उन्होंने कहा कि कुलभूषण जाधव का मामला अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में लंबित है और भारत उन्हें रिहा करवाने का हरसंभव प्रयास कर रहा है. मैं नहीं जानती कि उनकी पत्नी को उनसे मिलने देने की अनुमति देने में पाकिस्तान का पक्ष क्या है लेकिन यह एक अच्छी मानवीय पहल है और इससे उनका हौसला बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें - रक्षा मंत्रालय का बड़ा फैसला, नौसेना को मिलेंगे 111 हेलीकॉप्टर  

जम्मू एवं कश्मीर पर मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार आतंकवाद पर नकेल कसने के लिए कदम उठा रही है और राज्य पुलिस के काम की प्रशंसा की. सीतारमण ने कहा कि पिछले एक वर्ष में आप देखेंगे कि पथराव की घटना में कमी आई है और मैं इसका श्रेय जम्मू एवं कश्मीर पुलिस को देना चाहती हूं. राज्य सरकार एक चुनी हुई सरकार है और वे लोग इन मुद्दों को सुलझाने के लिए गांवों का दौरा कर रहे हैं.

VIDEO - भारत-चीन सीमा पर रक्षा मंत्री

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement