NDTV Khabar

नितिन गडकरी की वाहन कंपनियों को दो टूक: वै​कल्पिक ईंधन अपनाएं अन्यथा परिणाम भुगतने को तैयार रहें

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण और वाहन आयात पर लगाम लगाने के अपने प्रयासों के लिए प्रतिबद्ध हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नितिन गडकरी की वाहन कंपनियों को दो टूक: वै​कल्पिक ईंधन अपनाएं अन्यथा परिणाम भुगतने को तैयार रहें

गड़करी ने कहा कि मोदी सरकार की योजना 2000 ड्राइविंग स्कूल खोलने की है...

खास बातें

  1. गडकरी ने कहा - भविष्य पेट्रोल व डीजल का नहीं है
  2. बोले - प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए प्रतिबद्ध हैं
  3. कहा - जो सरकार का समर्थन कर रहे हैं वे फायदे में रहेंगे
नई दिल्ली: पेट्रोल व डीजल जैस पारंपरिक ईंधन से चलने वाले वाहन बनाने वाली कंपनियों से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दो टूक कह दिया है कि वे वै​कल्पिक र्इंधन अपनाएं अन्यथा परिणाम भुगतने को तैयार रहें. भविष्य पेट्रोल व डीजल का नहीं है बल्कि वैकल्पिक ईंधन का है. सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण और वाहन आयात पर लगाम लगाने के अपने प्रयासों के तहत वह इसके लिए प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने यह भी कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों पर एक कैबिनेट नोट तैयार है जिसमें चार्जिंग स्टेशनों पर ध्यान दिया जाएगा.

गडकरी ने सियाम के सालाना सम्मेलन में कहा, "हमें वै​कल्पिक ईंधन की ओर बढ़ना चाहिए. मैं यह करने जा रहा हूं, भले ही आपको यह पसंद हो या नहीं. मैं आपसे कहूंगा भी नहीं. मैं इन्हें (वाहनों को) ध्वस्त कर दूंगा. प्रदूषण के लिए, आयात के लिए मेरे विचार पूरी तरह स्पष्ट हैं. सरकार की आयात घटाने तथा प्रदूषण पर काबू पाने की स्पष्ट नीति है.' कड़ी चेतावनी देते हुए गडकरी ने कहा कि जो सरकार का समर्थन कर रहे हैं वे फायदे में रहेंगे और जो 'नोट छापने में लगे हैं' उन्हें परेशानी होगी. उन्होंने कहा कि कंपनियां बाद में यह कहते हुए सरकार के पास नहीं आएं कि उनके पास ऐसे वाहनों का भंडार भरा पड़ा है जो वैक​ल्पिक ईंधन पर नहीं चलते हैं.

यह भी पढ़ें: गौरी लंकेश हत्याकांड : राहुल ने BJP पर बोला हमला तो नितिन गडकरी ने ऐसे किया पलटवार

उन्होंने कहा, "हम पहले ही कैबिनेट नोट तैयार करने की प्रक्रिया में हैं जहां हम चार्जिंग स्टेशनों की योजना बनाएंगे. यह अंतिम चरण में है और इसे यथाशीघ्र अंतिम रूप दिया जाएगा." इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार जल्द ही इ​लेक्ट्रिक वाहनों पर नीति लाएगी. किसी तरह के ढुलमुल रवैये के प्रति आगाह करते हुए मंत्री ने कहा कि भविष्य पेट्रोल व डीजल का नहीं है बल्कि वैकल्पिक ईंधन का है.

VIDEO : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किया मेट्रो में सफर


उधर, भारतीय वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के निवर्तमान अध्यक्ष विनोद दसारी ने आयात व प्रदूषण घटाने के लिए सरकार के कदमों की सराहना की और कहा कि उद्योग इसका पूरा समर्थन करता है. दसारी ने सुझाव दिया कि अगर सरकार प्रदूषण घटाना चाहती है तो उसे अधिक प्रदूषण फैलाने वाले पुराने वाहनों को प्रतिबंधित करना चाहिए बजाय इसके लिए नए वाहनों को निशाना बनाया जाए.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement