NDTV Khabar

आर्कबिशप के खत पर बोले गृहमंत्री राजनाथ सिंह, देश में किसी भी तरह के भेदभाव की इजाजत नहीं

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत किसी के भी खिलाफ धर्म या संप्रदाय के आधार पर भेदभाव नहीं करता है और देश में ऐसा करने की कभी भी इजाजत नहीं रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आर्कबिशप के खत पर बोले गृहमंत्री राजनाथ सिंह, देश में किसी भी तरह के भेदभाव की इजाजत नहीं

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत किसी के भी खिलाफ धर्म या संप्रदाय के आधार पर भेदभाव नहीं करता है और देश में ऐसा करने की कभी भी इजाजत नहीं रही है. उनकी टिप्पणी दिल्ली के आर्कबिशप के उस बयान की पृष्ठभूमि में आई है, जिसमें उन्होंने देश में बने 'उथल-पुथल वाले राजनीतिक माहौल' का जिक्र किया था और 2019 के आम चुनाव से पहले प्रार्थना अभियान शुरू करने की अपील की थी.

यह भी पढ़ें : दिल्ली के आर्कबिशप ने खड़ा किया विवाद, कहा - राजनैतिक माहौल अशांत है, आम चुनाव से पहले प्रार्थना कीजिए

राजनाथ सिंह ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक कार्यक्रम से इतर कहा, 'मैंने (आर्कबिशप) शब्दश: बयान नहीं देखा है, लेकिन मैं यह कह सकता हूं कि भारत एक ऐसा देश है जहां किसी के भी खिलाफ धर्म या संप्रदाय या ऐसे किसी आधार पर भेदभाव नहीं किया जाता है. ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है.' 

यह भी पढ़ें : ममता बनर्जी ने दिल्ली के आर्कबिशप के खत का किया समर्थन, दिया यह बयान...

कार्यक्रम के दौरान गृह मंत्री ने कहा कि सरकार देश की एकता पर किसी भी तरह का आघात नहीं होने देगी. उन्होंने कहा, 'कई बार हमसे सवाल किए जाते हैं लेकिन हम देश की एकता, अखंडता और संप्रभुता से किसी भी कीमत पर समझौता नहीं करेंगे. यह हमारी शीर्ष प्राथमिकता है. हम हमारे समाज में मैत्री, बंधुत्व और सामंजस्य के बंधन को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.' 


यह भी पढ़ें : गिरिराज सिंह ने कहा- चर्च प्रार्थना के लिए कह सकता है तो दूसरे धर्म के लोग 'कीर्तन-पूजा' करेंगे

दिल्ली के आर्कबिशप अनिल काउटो द्वारा कथित तौर पर लिखे गए और राजधानी के सभी पादरियों को इस महीने की शुरुआत में भेजे पत्र में आगामी 2019 के आम चुनाव के मद्देनजर एक प्रार्थना आंदोलन शुरू करने और शुक्रवार के दिन व्रत करने का अनुरोध किया था. पत्र में 'संविधान में निहित लोकतांत्रिक सिद्धांतों और देश के धर्मनिरपेक्ष तानेबाने के लिए देश के अशांत राजनीतिक माहौल को खतरा बताते हुए कहा गया है कि 'अपने देश और यहां के राजनीतिक नेताओं के लिए हमेशा प्रार्थना करने की हमारी पवित्र प्रथा रही है और देश में चुनाव निकट आने पर यह और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है.' 

टिप्पणियां
VIDEO : दिल्ली : आर्कबिशप की चिट्ठी पर मचा बवाल


पत्र के मुताबिक, 'हम वर्ष 2019 की ओर देखते हैं जब नई सरकार आएगी, उसे देखते हुए हमें हमारे देश के लिए प्रार्थना अभियान शुरू करना चाहिए.' 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement