NDTV Khabar

ट्रेनों के एसी डिब्बों में यात्रा करने वाले यात्रियों को अब नहीं मिलेगा यह सामान...

रेलवे, यात्रियों के लिए यात्रा अनुभव को बेहतर बनाने पर ध्यान दे रहा है. फिलहाल फेस टॉवेल पर जो खर्च आता है वह प्रति टॉवेल 3.53 रुपये है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रेनों के एसी डिब्बों में यात्रा करने वाले यात्रियों को अब नहीं मिलेगा यह सामान...

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

खास बातें

  1. अब सस्ते, छोटे और एक बार इस्तेमाल योग्य नैपकिन दिए जाएंगे
  2. यात्रियों के लिए यात्रा अनुभव को बेहतर बनाने पर ध्यान दे रहा है
  3. अब कॉटन के बिना बुनाई वाले फेस टॉवल देने को कहा है
नई दिल्‍ली: रेलवे बोर्ड ने एक आदेश जारी किया है जिसके मुताबिक एसी डिब्बों में यात्रा करने वाले यात्रियों को जो फेस टॉवेल दिए जाते हैं उनकी जगह पर अब सस्ते, छोटे और एक बार इस्तेमाल योग्य नैपकिन दिए जाएंगे. रेलवे, यात्रियों के लिए यात्रा अनुभव को बेहतर बनाने पर ध्यान दे रहा है. इसी क्रम में कुछ महीने पहले रेलवे बोर्ड ने एसी डिब्बों में यात्रा करने वालों को नायलॉन के कंबल उपलब्ध कराने का सभी जोनों को आदेश दिया था और अब कॉटन के बिना बुनाई वाले फेस टॉवल देने को कहा है.

फिलहाल फेस टॉवेल पर जो खर्च आता है वह प्रति टॉवेल 3.53 रुपये है. सभी रेलवे जोनों के महाप्रबंधकों को 26 जून को भेजे गए पत्र में बोर्ड ने कहा है कि नए नैपकिन पर खर्च कम आएगा क्योंकि उन्हें थोक में खरीदा जा सकता है और वह आकार में भी छोटे होंगे. एसी डिब्बों में यात्रा करने वालों के टिकट में बेडरोल की कीमत शामिल होगी.

योगी, तेंदुलकर और गडकरी समेत 174 वीआईपी ने नये रेलवे जोनों और मंडलों की मांग की
सचिन तेंदुलकर, शशि थरूर, नितिन गडकरी और योगी आदित्यनाथ सहित 174 अति विशिष्ट व्यक्तियों ने पिछले तीन साल में रेलवे बोर्ड से विभिन्न नये जोन और मंडल बनाने की मांग की है. रेल मंत्रालय के रिकार्ड्स से इसकी जानकारी मिली है. रेलवे अधिकारियों ने बताया कि ज्यादातर मांग ‘‘राजनीतिक कारणों से प्रेरित’’ है और ‘‘क्षेत्रीय सोच रेलवे की परिचालन आवश्यकताओं पर हावी नहीं हो सकती हैं.’’

रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार 2014 से 31 मार्च 2017 तक 55 अतिविशिष्ट व्यक्तियों ने नये जोन और 119 अतिविशिष्ट व्यक्तियों ने नये मंडल की मांग की थी. रेलवे बोर्ड के एक पूर्व सदस्य ने बताया, ‘रेलवे जोन का निर्माण करना राजनीतिक बाध्यता है. अतीत में रेलवे बोर्ड की तरफ से गठित की गयी कमेटियों ने अपनी रिपोर्ट में न केवल यह कहा था कि अधिक रेलवे जोनों की स्थापना आर्थिक तथा परिचालन के तौर पर व्यवहार्य नहीं है लेकिन उन्होंने बोर्ड से मौजूदा जोन की संख्या कम करने का भी आग्रह किया था. फिर भी, मांग जारी है.’’

टिप्पणियां
VIDEO: भारतीय रेलवे के प्रदर्शन का लेखा-जोखा

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement