AAP के राज्यसभा कैंडिडेट सुशील गुप्ता : कभी केजरीवाल के थे विरोधी, आज बने 'संकटमोचक'

इस पोस्टर से साफ पता चल रहा है कि सुशील गुप्ता कुछ समय पहले तक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कितने विरोधी थे.

AAP के राज्यसभा कैंडिडेट सुशील गुप्ता : कभी केजरीवाल के थे विरोधी, आज बने 'संकटमोचक'

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

खास बातें

  • आम आदमी पार्टी ने सुशील गुप्ता को राज्यसभा टिकट दिया.
  • एक समय सुशील गुप्ता केजरीवाल धूर विरोधी थे.
  • आज सीएम केजरीवाल के लिए संकटमोचक बन गये हैं.
नई दिल्ली:

जब से पूर्व कांग्रेसी और दिल्ली के बड़े कारोबारी सुशील गुप्ता को आम आदमी पार्टी ने अपना राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया है तब से सोशल मीडिया में एक पोस्टर घूम रहा है. इस पोस्टर से साफ पता चल रहा है कि सुशील गुप्ता कुछ समय पहले तक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कितने विरोधी थे. इस पोस्टर में लिखा है '854 करोड़ जनता की कमाई, केजरीवाल ने अपने प्रचार में लुटाई'.

दरअसल, ये पोस्टर अक्टूबर 2016 की है. जब सुशील गुप्ता कांग्रेस में हुआ करते थे और पार्टी की ट्रेड विंग दिल्ली स्टेट ट्रेडर्स कांग्रेस के अध्यक्ष थे. तब केजरीवाल पर 854 करोड़ रुपये विज्ञापन में फिजूल खर्चने के आरोप में सुशील गुप्ता ने पोस्टर लगवाया था और 17-24 अक्टूबर 2016 के दौरान हस्ताक्षर अभियान भी चलाया था. सुशील गुप्ता ने इसे 'वसूली दिवस' का नाम दिया था.

यह भी पढ़ें - बाहरी को राज्यसभा भेजने को सीएम अरविंद केजरीवाल ने खुद बताया 'मास्टरस्ट्रोक'

गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी ने अपने राज्यसभा उम्मीदवारों के तौर पर आज संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एन डी गुप्ता को नामित किया है. संजय सिंह पार्टी गठन के समय से ही उससे जुड़े हुए हैं. सुशील गुप्ता दिल्ली के एक कारोबारी हैं और एन डी गुप्ता एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया जिसमें करीब पार्टी के 56 विधायकों ने हिस्सा लिया. पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) ने कुछ देर बाद ही बैठक की और निर्णय को औपचारिक रूप से मंजूरी दी. 
 

arvind kejriwal

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने संवाददाताओं से कहा, ‘सुशील गुप्ता ने दिल्ली और हरियाणा में शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्रों में बड़ा योगदान दिया है. वह 15000 बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा मुहैया कराते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘नारायण दास गुप्ता आईसीएआई (इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया) के पूर्व अध्यक्ष हैं.’ राज्यसभा सीट के उम्मीदवार बनने की आस लगाए बैठे असंतुष्ट नेता कुमार विश्वास ने पीएसी बैठक में भाग नहीं लिया. वह पीएसी के सदस्य हैं.


यह भी पढ़ें - आखिर क्यों बाहरी उम्मीदवारों को राज्यसभा भेज रही AAP?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दिल्ली से तीन राज्यसभा सीटों के लिए मतदान 16 जनवरी को होंगे. 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में आप को पूर्ण बहुमत प्राप्त है और उसके सभी तीनों सीटों पर जीत हासिल करने की पूरी उम्मीद है. राज्यसभा सीटों के लिए नामांकन दायर करने की अंतिम तिथि पांच जनवरी है. 

VIDEO : प्राइम टाइम : राज्यसभा टिकट बंटवारे से 'आप' पर उठे सवाल