NDTV Khabar

तत्काल टिकट बुकिंग में बड़े घपले के खुलासे के बाद कई सॉफ्टवेयर की हो रही है जांच

एजेंसी सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने अपने ही प्रोग्रामर अजय गर्ग के खिलाफ जांच के दौरान पाया कि काफी संख्या में ऐसे ही सॉफ्टवेयर एक तय कीमत पर आसानी से उपलब्ध हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तत्काल टिकट बुकिंग में बड़े घपले के खुलासे के बाद कई सॉफ्टवेयर की हो रही है जांच

ऑनलाइन तत्काल बुकिंग सॉफ्टवेयर सीबीआई की जांच के दायरे में (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. ये सॉफ्टवेयर पीएनआर जारी करने की प्रक्रिया तेज कर देते हैं
  2. इससे एक ही समय पर महज एक क्लिक से कई टिकट बुक हो जाते हैं
  3. एजेंटों द्वारा ऐसे सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल पर पैसे लिया करते थे आरोपी
नई दिल्ली: सीबीआई द्वारा रेलवे के तत्काल रिजर्वेशन सिस्टम में सेंधमारी कर एक ही बार में सैकड़ों टिकटों का रिजर्वेशन करने का खुलासा किए जाने के बाद ट्रैवल एजेटों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले कई सारे ऑनलाइन सॉफ्टवेयर जांच के दायरे में आ गए हैं. एजेंसी सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने अपने ही प्रोग्रामर अजय गर्ग के खिलाफ जांच के दौरान पाया कि काफी संख्या में ऐसे ही सॉफ्टवेयर एक तय कीमत पर आसानी से उपलब्ध हैं. गर्ग ने ऐसा ही एक अवैध सॉफ्टवेयर बनाया था. सीबीआई सूत्रों ने बताया कि रेलवे टिकटिंग प्रणाली में सेंध लगाने के लिए इन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा रहा है. इनके जरिए बुकिंग प्रक्रिया की गति बढ़ जाती है और कई टिकट बुक हो जाते हैं. सूत्रों ने बताया कि 'नियो' सॉफ्टवेयर गर्ग ने बनाया. इस सॉफ्टवेयर की तरह कई प्रोग्राम हैं, जो ऑनलाइन उपलब्ध हैं.

यह भी पढ़ें : होटलों और एयरलाइंस कंपनियों की तरह टिकट पर छूट देने की तैयारी में रेलवे- जानें 10 अहम बातें

एक अधिकारी ने बताया, 'ऐसे सभी सॉफ्टवेयर जांच के दायरे में हैं. हम उनकी छानबीन कर रहे हैं और उनके संचालन में कोई अवैधता पाए जाने पर जल्द ही कार्रवाई करेंगे.' सूत्रों ने बताया कि सॉफ्टवेयर 'ऑटो फिल' प्रणाली पर काम करते हैं, जिसके तहत काफी संख्या में टिकट चाहने वाले लोगों का ब्योरा डाल दिया जाता है और आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर सुबह 10 बजे तत्काल टिकट की बुकिंग शुरू होने से पहले उन्हें तैयार रखा जाता है. उन्होंने बताया कि ये सॉफ्टवेयर पीएनआर जारी करने की प्रक्रिया तेज कर देते हैं और इनमें आईआरसीटीसी का कैप्चा भी नहीं डालना पड़ता. साथ ही, कई आईडी से लॉगिन हो जाता है और एक ही समय पर महज एक क्लिक से काफी संख्या में टिकट बुक हो जाते हैं.

यह भी पढे़ं : अब बिना पैसे सेकेंडों में बुक होगा तत्‍काल टिकट, बाद में करें भुगतान

टिप्पणियां
सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने कहा कि इस तरह के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल आईआरसीटीसी नियम कायदों के मुताबिक अवैध है. यह रेल अधिनयम के तहत भी अवैध है. यह भी आरोप है कि आरोपी कुछ बुकिंग एजेंटों द्वारा ऐसे सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल पर पैसे लिया करता था और इन हरकतों से काफी धन जमा किया. उन्होंने बताया था कि सीबीआई ने इसके सॉफ्टवयेर बनाने और एक तय कीमत पर उसे एजेंटों को उपलब्ध कराने को लेकर असिस्टेंट प्रोग्रामर और उसके एक सहयोगी अनिल गुप्ता को गिरफ्तार किया है. गौरतलब है कि गर्ग (35) एक चयन प्रक्रिया के जरिए 2012 में सीबीआई में शामिल हुआ था और एक असिस्टेंट प्रोग्रामर के तौर पर काम कर रहा था.

इससे पहले वह 2007 से 2011 के बीच आईआरसीटीसी में था, जो टिकटिंग प्रणाली को संचालित करता है.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement