NDTV Khabar

जम्‍मू-कश्‍मीर : पाकिस्तान ने फिर किया कृष्‍णा घाटी में सीजफायर उल्‍लंघन, 6 दिन में मारे गए 13 आतंकी

इससे पहले शनिवार रात को कृष्णा घाटी इलाके में ही पाकिस्तान ने छोटे ऑटोमेटिक हथियारों और मोर्टार के साथ फायरिंग की थी जिसका सेना ने करारा जवाब दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्‍मू-कश्‍मीर : पाकिस्तान ने फिर किया कृष्‍णा घाटी में सीजफायर उल्‍लंघन, 6 दिन में मारे गए 13 आतंकी

फाइल फोटो

खास बातें

  1. पुंछ के कृष्‍णा घाटी में सोमवार सुबह से पाक की गोलाबारी
  2. शनिवार को पाक आर्मी चीफ का एलओसी पर दौरा
  3. रविवार को घुसपैठ करने आए पांचों आतंकी लश्कर के थे
श्रीनगर: पाकिस्तान ने अब पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में सोमवार सुबह से गोलाबारी शुरू कर दी है. बिना किसी उकसावे के पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर छोटे ऑटोमैटिक हथियारों से लेकर मोर्टार से फायरिंग शुरू कर दी है. इसके साथ ही राजौरी के नौशेरा के पास लाम सेक्‍टर में भी युद्धविराम का उल्‍लंघन किया और वहां भी मोर्टार दागे.  पाक गोलाबारी का भारतीय सेना असरदार और मजबूती से जवाब दे रही है. इससे पहले शनिवार रात को कृष्णा घाटी इलाके में ही पाकिस्तान ने छोटे ऑटोमेटिक हथियारों और मोर्टार के साथ फायरिंग की थी जिसका सेना ने करारा जवाब दिया था.

इतना ही नहीं पाक सेना ने रविवार को सुबह और शाम को राजौरी के नौशेरा सेक्टर में युद्धविराम का उल्‍लंघन किया. एलओसी पर पाकिस्तान ने अंधाधुंध गोलाबारी शुरू कर दी. सरहद पर मौजूद भारतीय पोस्ट ने पाकिस्तानी फायरिंग का प्रभावी ढंग से जवाब दिया. इतना ही नहीं रविवार को ही पाकिस्तान ने जम्मू के लॉइन ऑफ कंट्रोल पर बिम्मबर गली सेक्टर में भी युद्धविराम का उल्‍लघंन किया था. उधर रविवार को ही जम्मू इलाके के अंतरराष्‍ट्रीय सीमा पर पाक रेंजर्स ने रामगढ़ सेक्टर में भी ऐसी ही गोलाबारी शुरू कर दी. बॉर्डर पर तैनात बीएसएफ ने पाकिस्तान की गोलाबारी का जमकर जवाब दिया.

टिप्पणियां
समझा जाता है कि सीमा पर पाक गोलाबारी में इजाफा के पीछे पाक सेना प्रमुख जनरल बाजवा का एलओसी पर शनिवार को दौरा भी है. ऐसे में 2003 से भारत और पाकिस्तान के सरहद पर शांति के लिए जारी युद्धविराम का कोई मायने नहीं रह जाता है.

सेना ने पिछले छह दिनों में घुसपैठ की कोशिश कर रहे 13 आतंकियों को एलओसी पर मार गिराया है. उड़ी के ब्रिगेड कमांडर ब्रिगेडियर वाईएस अहलावत ने कहा कि गुरुवार से एलओसी पर जारी ऑपेरशन के बाद रविवार को यहां घुसपैठ करने आए मारे गए पांचों आतंकी लश्कर के फिदायीन आतंकी थे, जिनकी मंशा सेना के कैंप पर हमला या फिर उड़ी के आसपास के आबादी वाले इलाके में हमला करने की थी.
armsमारे गए आतंकियों के पास से बरामद हथियार

आपको ये बता दे कि पिछले साल आतंकियो ने उड़ी में सेना के कैंप पर हमला कर 19 जवानों को शहीद कर दिया था जिसके बाद सेना ने एलओसी पार जाकर आतंकियों के लॉन्चिग पैड तबाह किये थे और इस कार्रवाई में कई आतंकी मारे गए थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement