Coronavirus के कारण संसद के बजट सत्र का सोमवार को समापन होने की संभावना

Coronavirus Outbreak: कोरोना वायरस के बढ़ रहे खतरों के बीच संसद का बजट सत्र सोमवार को खत्म होने संभावना है. COVID-19 से उत्पन्न खतरे के मद्देनजर इस सत्र के निर्धारित समय से 12 दिन पहले ही समाप्त होने की संभावना है.

Coronavirus के कारण संसद के बजट सत्र का सोमवार को समापन होने की संभावना

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

Coronavirus Outbreak: कोरोना वायरस के बढ़ रहे खतरों के बीच संसद का बजट सत्र सोमवार को खत्म होने संभावना है. COVID-19 से उत्पन्न खतरे के मद्देनजर इस सत्र के निर्धारित समय से 12 दिन पहले ही समाप्त होने की संभावना है. सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. पहले इस सत्र का तीन अप्रैल को समापन होना था, लेकिन अब ऐसी संभावना है कि 23 मार्च को ही अनिश्चितकाल के लिए समाप्त हो जाए. तृणमूल कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दलों ने कई राज्यों द्वारा कोरोना वायरस को लेकर भिन्न-भिन्न अवधि के लिए बंदी की घोषणा किये जाने के कारण सोमवार को सत्र में हिस्सा नहीं लेने का निर्णय लिया है. 

Coronavirus: देश के 80 छोटे-बड़े शहरों को कर दिया गया लॉकडाउन, क्या आप जानते हैं इसके मायने?

तृणमूल कांग्रेस ने रविवार को घोषणा की कि उसने कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर अपने सभी सांसदों को संसद से लौटकर अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वापस आने का निर्देश दिया है. तृणमूल के सांसद एवं राज्यसभा में पार्टी के नेता डेरेक ओ ब्रायन और लोकसभा सांसद एवं लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने दोनों सदनों के पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि सदन की कार्यवाही 23 मार्च (सोमवार) को पूरी कर दी जाए. तृणमूल के लोकसभा में 22 और राज्यसभा में 13 सदस्य हैं. उसने कहा कि तृणमूल पिछले 10 दिन से संसद को स्थगित करने की सरकार से अपील कर रही है, लेकिन अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया.

Coronavirus का कहर: कई राज्यों में Lockdown, ट्रेन सेवाएं भी बंद, अब तक 7 की मौत - 10 बातें

पत्र में कहा गया है, 'प्रधानमंत्री ने स्वयं सामाजिक दूरी बनाए रखने की तत्काल आवश्यकता, बड़े समूहों में एकत्र नहीं होने और 65 साल एवं अधिक आयु के लोगों के बहुत एहतियान बरतने की जरूरत की बात की है.' उसमें कहा गया है, 'राज्यसभा में करीब 44 प्रतिशत सांसद और लोकसभा में 22 प्रतिशत सांसद 65 साल से अधिक आयु के हैं. यह केवल सांसदों का ही सवाल नहीं है, बल्कि हर रोज संसद परिसर में आने वाले हजारों लोगों का सवाल है. यह विरोधाभासी संदेश बहुत खतरनाक है.' 
 

VIDEO: केजरीवाल सरकार ने कोरोना के कारण 31 मार्च तक दिल्ली में किया लॉकडाउन

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com