NDTV Khabar

देश में तेल आपूर्ति की कोई दिक्कत नहीं, केंद्रीय मंत्री ने बताई दाम बढ़ने की असली वजह

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के लागू होने से पहले भारत ने कहा कि कच्चा तेल बाजार की प्रतिकूल परिस्थितियों के लिए कच्चे तेल की उपलब्धता कोई वजह नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश में तेल आपूर्ति की कोई दिक्कत नहीं, केंद्रीय मंत्री ने बताई दाम बढ़ने की असली वजह

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के लागू होने से पहले भारत ने कहा कि कच्चा तेल बाजार की प्रतिकूल परिस्थितियों के लिए कच्चे तेल की उपलब्धता कोई वजह नहीं है, बल्कि एक बड़े तेल आपूर्तिकर्ता के बाजार से हटने की आशंका से प्रभावित धारणा के कारण दाम चढ़ रहे हैं. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 'इंडिया एनर्जी फोरम' से इतर कहा कि ईरान से आपूर्ति बाधित होने की स्थिति में उसकी भरपाई के विकल्प मौजूद है. उन्होंने कहा कि एक बड़े आपूर्तिकर्ता के बाजार से अनुपस्थित होने की आशंका में बाजार घबराया हुआ है और इसी कारण कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं.

यह भी पढ़ें : पट्रोल और डीजल की कीमत में बढ़ोतरी जारी, कुछ दिन पहले ही कम किए गए थे दाम


धर्मेंद्र प्रधान ने भारत द्वारा अमेरिका से प्रतिबंधों में राहत दिए जाने की मांग के बारे में पूछे जाने पर कहा कि देश ने नवंबर के लिए ईरान के साथ सौदा कर अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है. इसके अलावा दोहराए जाने के लिए कोई नई बात नहीं है. प्रधान ने पिछले सप्ताह कहा था कि नवंबर में ईरान से 12.5 लाख टन कच्चा तेल खरीदने का सौदा किया जा चुका है.
 

dharmendra pradhan

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान. (फाइल फोटो)


उन्होंने कहा, 'मौजूदा समय में कच्चे तेल की उपलब्धता के संबंध में कोई मुद्दा ही नहीं है, लेकिन विश्व के विभिन्न भागों में भू-राजनीतिक अनिश्चितता के चलते यह धारणा से जुड़ा मुद्दा बन गया है. यही प्राथमिक चुनौती है. हम पहले दिन से आश्वस्त हैं कि कच्चा तेल मंगाने में कोई समस्या नहीं होगी. यह अन्य देशों के पास प्रचूर मात्रा में उपलब्ध है.'

यह भी पढ़ें : कांग्रेस का पीएम मोदी पर तंज: क्या इस चीज ने PM को मेट्रो में सफर करने पर मजबूर कर दिया

टिप्पणियां

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ उपस्थित आईएचएस मार्किट उपाध्यक्ष डैनिएल यर्गिन ने भी संवाददाताओं से कहा कि बाजार के समक्ष धारणा प्रभावित होने की दिक्कत है, आपूर्ति की नहीं.  बता दें कि प्रतिबंध लागू होने का समय नजदीक आते जाने के मद्देनजर इस महीने कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतें चार साल के उच्च स्तर 86.74 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गई हैं. हालांकि, अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लागू होने का समय बढ़ाये जाने के संकेत के बाद दाम कुछ नरम पड़े हैं. 

VIDEO : 10 दिन में बेअसर डीजल पर कटौती 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement