NDTV Khabar

स्विस बैंक में भारतीयों के पैसे में बढ़ोतरी पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की सफाई
पढ़ें | Read IN

गौरतलब है कि भारतीयों का स्विस बैंकों में जमा धन चार साल में पहली बार बढ़ कर पिछले साल एक अरब स्विस फैंक (7,000 करोड़ रुपये) के दायरे में पहुंच गया जो एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतितशत की वृद्धि दर्शाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
स्विस बैंक में भारतीयों के पैसे में बढ़ोतरी पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की सफाई

पीयूष गोयल ने स्विस बैंक रिपोर्ट पर दी सफाई है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पीयूष गोयल ने कहा- अभी से अनुमान क्यों
  2. इस वित्तीय साल में मिलेगा पूरा डाटा
  3. स्विटजरलैंड के साथ हुआ है समझौता
नई दिल्ली: साल 2017 में स्विस बैंक में भारतीयों के पैसे में 50 फीसदी की बढ़ोत्तरी की खबर पर केंद्र सरकार की ओर से सफाई दी गई है. केंद्रीय मंत्री और अभी वित्त मंत्रालय का कामकाज संभाल रहे पीयूष गोयल ने कहा है कि भारत और स्विटजरलैंड के बीच समझौता है. 1 जनवरी 2018 से इस वित्तीय साल के खत्म होने तक सारा डाटा हमें उपलब्ध करा दिया जाएगा. इसलिये अभी से इस पर किसी तरह का अनुमान क्यों लगाया जा रहा है. 

कालेधन के मोर्चे पर क्या फेल हो गई मोदी सरकार? स्विस बैंक से आई ये चौंकाने वाली रिपोर्ट, 10 बातें

टिप्पणियां
गौरतलब है कि भारतीयों का स्विस बैंकों में जमा धन चार साल में पहली बार बढ़ कर पिछले साल एक अरब स्विस फैंक (7,000 करोड़ रुपये) के दायरे में पहुंच गया जो एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतितशत की वृद्धि दर्शाता है. स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक के ताजा आंकड़ों में यह बात सामने आयी है.

विदेशों में जमा कालेधन पर RTI, पीएमओ नहीं दे रहा है जानकारी​

इसके अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में रखा गया धन 2017 में 50% से अधिक बढ़कर 7000 करोड़ रुपये (1.01 अरब फ्रेंक) हो गया. इससे पहले तीन साल यहां के बैंकों में भारतीयों के जमा धन में लगातार गिरावट आई थी. अपनी बैंकिंग गोपनीयता के लिए पहचान बनाने वाले इस देश में भारतीयों के जमाधन में ऐसे समय दिखी बढ़ोतरी हैरान करने वाली है जबकि भारत सरकार विदेशों में कालाधन रखने वालों के खिलाफ अभियान चलाए हुए है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement