राफेल डील पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के खुलासे के बाद राहुल का PM मोदी पर हमला, देश से विश्वासघात करने का लगाया आरोप

राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर हमला बोला.

राफेल डील पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के खुलासे के बाद राहुल का PM मोदी पर हमला, देश से विश्वासघात करने का लगाया आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला
  • राहुल ने पीएम पर देश से विश्वासघात करने का लगया आरोप
  • फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के बयान के बाद कटघरे में सरकार
नई दिल्ली:

राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर हमला बोला. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'देश के साथ विश्वासघात किया और सैनिकों के लहू का अपमान किया.' राहुल गांधी ने ट्वीट किया, 'पीएम ने बंद दरवाज़ों के पीछे खुद राफेल सौदे की बातचीत की और उसमें बदलाव किए. फ्रांस्वा ओलांद को धन्यवाद, अब हम जान गए हैं कि उन्होंने निजी दिलचस्पी लेकर अरबों रुपये का सौदा दिवालिया अनिल अंबानी के लिए के लिए किया. प्रधानमंत्री ने देश को धोखा दिया. उन्होंने हमारे सैनिकों के खून का अपमान किया है.'

 


उधर कांग्रेस ने कहा कि 'सफेद झूठ' पकड़ा गया और 'चौकीदार' इस मामले में 'गुनहगार' है. फ्रांसीसी मीडिया के मुताबिक ओलांद ने कथित तौर पर कहा है कि भारत सरकार ने 58,000 करोड़ रुपये के राफेल विमान सौदे में फ्रांस की विमान बनाने वाली कंपनी दसाल्ट एविएशन के ऑफसेट साझेदार के तौर पर रिलायंस डिफेंस का नाम प्रस्तावित किया था और ऐसे में फ्रांस के पास कोई विकल्प नहीं था. 
 
इस खबर को लेकर कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, 'सफ़ेद झूठ का पर्दाफ़ाश हुआ. प्रधानमंत्री के सांठगांठ वाले पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को 30 हजार करोड़ रुपये के ऑफसेट कांट्रैक्ट से वंचित किया गया. इसमें मोदी सरकार की मिलीभगत और साजिश का खुलासा हो गया है.' उन्होंने कहा, 'अब सफेद झूठ पकड़ा गया है. साफ है कि चौकीदार सिर्फ भागीदार नहीं, गुनहगार है.' 

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कटाक्ष करते हुए कहा, 'फ्रांस्वा ओलांद को यह भी बताना चाहिए कि 2012 में जो विमान 590 करोड़ रुपये का था, वो 2015 में 1690 करोड़ रुपये का कैसे हो गया. 1100 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है.' कांग्रेस यह आरोप लगाती रही है कि मोदी सरकार ने फ्रांस की कंपनी दसाल्ट से 36 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद का जो सौदा किया है, उसका मूल्य पूर्ववर्ती यूपीए सरकार में किए गए समझौते की तुलना में बहुत अधिक है, जिससे सरकारी खजाने को हजारों करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. पार्टी ने यह भी दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सौदे को बदलवाया, जिससे एचएएल से ठेका लेकर रिलायंस डिफेंस को दिया गया. 
 


इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी मामले में पीएम मोदी पर हमला बोला, केजरीवाल ने ट्वीट किया, 'प्रधानमंत्री जी सच बोलिए. देश सच जानना चाहता है. पूरा सच. रोज भारत सरकार के बयान झूठे साबित हो रहे हैं. लोगों को अब यकीन होने लगा है कि कुछ बहुत ही बड़ी गड़बड़ हुई है, वरना भारत सरकार रोज एक के बाद एक झूठ क्यों बोलेगी?'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO :  राफेल डील को लेकर बड़ा खुलासा

उधर, रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि हम फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान से जुड़ी इस रिपोर्ट की हम जांच कर रहे हैं कि भारत सरकार ने दसौं एवियेशन की ऑफ़सेट साझेदार के तौर पर एक ख़ास कंपनी का नाम दिया. ये बात फिर दुहराते हैं कि कारोबारी निर्णय में न भारत सरकार की भूमिका थी न फ़्रेंच सरकार की.