NDTV Khabar

पीएम मोदी ने बुलाई अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों की अहम बैठक, अर्थव्यवस्था पर होगी चर्चा

देश में कमज़ोर पड़ती अर्थव्यवस्था पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों की एक अहम बैठक बुलाई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी ने बुलाई अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों की अहम बैठक, अर्थव्यवस्था पर होगी चर्चा

पीएम मोदी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

देश में कमज़ोर पड़ती अर्थव्यवस्था पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों की एक अहम बैठक बुलाई है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक ये बैठक 22 जून को नीति आयोग में होगी. पीएम मोदी की अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों के साथ इस बैठक में आर्थिक विकास दर में आयी गिरावट की वजहों की समीक्षा की जाएगी. बैठक में उन विकल्पों पर भी विचार होगा जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था को दोबारा पटरी पर लाया जा सके और ग्रोथ सेंटीमेंट में सुधर हो. सरकारी सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री इस बैठक में आर्थिक विकास दर के साथ-साथ रोज़गार पैदा करने में आ रही अड़चनों पर भी विचार करेंगे. 

औद्योगिक वृद्धि अप्रैल में छह महीने के उच्च स्तर 3.4 प्रतिशत रही 


इस बैठक का मुख्य एजेंडा आर्थिक विकास दर को फिर से सुधारना और उसे हायर ग्रोथ की तरफ ले जाना होगा. 31 मई को सांख्यिकी मंत्रालय ने एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें कहा गया था को 2018-19 में आर्थिक विकास दर घट कर 6.8 फीसदी हो गई है जो पिछले पांच साल में सबसे कम है और इस साल जनवरी से मार्च की तिमाही में आर्थिक विकास दर घट कर 5.8% रह गयी है. 5 जुलाई को संसद में पेश होने वाले आम बजट से पहले इस बैठक को काफी एहम माना जा रहा है.

आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की, जानें- इससे क्या होगा लाभ

जीडीपी विकास दर पांच साल के सबसे निचले स्तर पर
भारत के सकल घरेलू उत्पाद (gross domestic product) यानी कि GDP में जनवरी से मार्च की अवधि में 5.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. शुक्रवार 31 मई को जारी सरकारी आंकड़ों से यह जाहिर हुआ. इसके साथ ही भारत चीन से पिछड़ गया. भारत ने डेढ़ साल में पहली बार दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था का रुतबा खो दिया. जबकि चीन आगे बढ़ गया. चीन की अर्थव्यवस्था ने मार्च तिमाही में 6.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की. वित्तीय वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में देश के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर पिछले साल की समान अवधि से घटकर 5.8 फीसदी रह गई है.

टिप्पणियां

पीएम मोदी की अर्थव्यवस्था में सुधार और बेरोजगारी दूर करने की तैयारी, दो कैबिनेट समितियां गठित

वित्त वर्ष 2017-18 में चौथी तिमाही में देश की जीडीपी विकास दर 7.7 फीसदी थी. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में देश की जीडीपी वृद्धि दर (GDP Growth Rate) 6.8 फीसदी रही, जो कि जीडीपी विकास दर का पिछले पांच साल का सबसे निचला स्तर है. आंकड़ों के अनुसार, देश की आर्थिक विकास दर घटने का मुख्य कारण कृषि और खनन क्षेत्र की वृद्धि दर में कमी है



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement