NDTV Khabar

प्रचंड जीत के बाद PM मोदी ने काशी में कहा- मैं BJP का एक कार्यकर्ता, हर घर का मोदी चुनाव लड़ रहा था

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 मई को राष्ट्रपति भवन में नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे. उनके बाद मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं को कहा धन्यवाद
  2. कहा- अंकगणित को केमेस्ट्री ने फेल कर दिया
  3. 'काशी पर मुझे विश्वास था'
नई दिल्ली:

वाराणसी से दोबारा सांसद चुने जाने के बाद सोमवार को पहली बार काशी पहुंचे नामित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) ने काशी विश्‍वनाथ मंदिर में रुद्राभिषेक किया. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) भी पीएम मोदी के साथ के साथ काशी पहुंचे थे. मोदी मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद पंडित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला केन्द्र में आयोजित समारोह को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया. इसके बाद पीएम मोदी ने भोजपुरी में वहां मौजूद लोगों कहा- 'प्रणाम बा'.  उन्होंने कहा कि पार्टी और कार्यकर्ता जो आदेश करते हैं तो मैं उसका पालन करने का पूरा करता हूं. उन्होंने कहा कि जिस दिन में काशी आया था उस दिन जो दृश्य था उसने पूरे देश को प्रभावित किया था. काशी का मिजाज जिस तरह से प्रकट हो रहा था कि उसे पूरा देश देख रहा था. उसके बाद जब यहां के कार्यकर्ताओ ने कहा था कि एक महीने तक आप काशी में प्रवेश में नहीं कर सकते हैं तो मेरे लिए आपका आदेश सर आंखों पर है. मैं आपके लिए कार्यकर्ता हूं. 
 

'हर घर से नरेंद्र मोदी लड़ रहा था'
पीएम मोदी ने कहा कि मैं काशी आना चाहता था. मैं चुनाव नतीजों को लेकर निश्चिंत था. मैं काशीवासियों का परिश्रम में था. मैं इसीलिए बाबा केदार के चरणों में बैठा था. काशी ने जो शक्ति मुझे दी है, ऐसा सौभाग्य मिलना बहुत मुश्किल है.  पीएम मोदी ने कहा कि इस चुनाव में अलग-अलग दलों के साथी और निर्दलीय साथी थे वह भी अभिनंदन के अधिकारी हैं. वह मीडिया और प्रशासन का अभी बहुत-बहुत अभिनंदन करना चाहता हूं. इस चुनाव में ऐसा लग रहा था कि एक नहीं हर घर का नरेंद्र मोदी लड़ेगा. आमतौर पर जब इस तरह का चुनाव होता है तो लोगों को लगता है कि हर अब क्या है चुनाव जीतने वाले हैं. लेकिन इस चुनाव को जय-पराजय के तराजू से नहीं तौला, इस लोकशिक्षा और लोकसमर्पण का पर्व माना. कार्यकर्ता हर घर से, हर मतदाता से मिले. इन सभी कसौटियों के साथ आप पास हुए हैं इसलिए आप बधाई के पात्र हैं. पीएम मोदी ने कहा कि यहां की बेटियों की भी चर्चा है.  पीएम मोदी ने कहा कि आज भले ही मैं काशी से बोल रहा हूं लेकिन पूरे उत्तर प्रदेश का आभारी हूं. उत्तर प्रदेश के गांव गरीब परिवार का शख्स भी भारत के भविष्य के बारे में सोचता है और उसी दिशा में चलने के लिए प्रेरित करता है. 

अंकगणित को केमेस्ट्री ने फेल कर दिया
उन्होंने कहा कि तीन-तीन चुनाव के बाद भी अगर चुनावी पंडितों की आंखें नहीं खुली हैं तो वह 21 वीं सदी के लिए नहीं है. पीएम मोेदी ने कहा कि चुनाव परिणाम क्षणिक होते हैं, 20वीं सदी के चुनाव भले ही अंकगणित से चले हैं लेकिन 2014, 2017 और 2019 के बाद चुनाव विशेषज्ञों के सोचना होगा कि अंकगणिक के आगे केमेस्ट्री होती है. समाज में एक एक केमेस्ट्री होती है जिसने सभी अंकगणित को फेल कर दिया है. प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ ताकतें ऐसी जो चाहती हैं कि किसी भी तरह से हमारे पक्ष में परसेप्शन न बने और अगर परसेप्शन बने तो उसे बिगाड़ दिया जाए. लेकिन ऐसे लोगों को सोचना होगा कि पारदर्शिता और परिश्रम से किसी भी परसेप्शन को समाप्त करने की ताकत रखती हैं. ॉ


जो लोग एकता के ठेकेदार हैं...
पीएम मोदी ने कहा कि हमें सकारात्मकता लेकर आगे जाना है क्योंकि देश उसी से आगे बढ़ेगा. सरकार और संगठन के बीच समन्वय बड़ी ताकत होती है. अपने देखा होगा कि राज्यों और केंद्र में सरकारें हैं लेकिन समन्वय है. सरकार नीति बनाती है और संगठन रणनीति बनाती है, सरकार का काम है कार्य करना है. कार्य और कार्यकर्ता मिलकर करिश्मा करती है. येआपने देखा है. पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने कम किया, शौचालय बनाया, घरल बनवाया लेकिन कार्यकर्ताओं ने विश्वास दिलाया कि अभी और भी लोगों को मिलने वाला है.  उन्होंने कहा हमने दो संकट भी झेले हैं, केरल, बंगाल, कश्मीर की बातें अखबारों में नहीं छपती हैं क्योंकि कुछ लोगों की सेलेक्टिव मानववाद और संवेदनशीलता है. हमारे कार्यकर्ताओं ने शहादत दी है, त्रिपुरा में कार्यकर्ताओं को फांसी पर चढ़ा दिया गया, केरल में मारा गया, कश्मीर में हमारे कार्यकर्ताओं ने जान की बाजी लगाई है. दूसरा संकट हमारे देश में राजनीतिक छुआ-छूछ बढ़ती जा रही है. बीजेपी का नाम लेते ही कहा जाता है कि हमें छुओ मत, बड़े खतरनाक हैं. जो लोग एकता के ठेकेदार हैं वह आज तक तेलंगाना और केरल में आज तक शांति नहीं ला पाए. हमने भी उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और झारखंड बनाया लेकिन किसी के भी चेहरे शिकन नहीं है.

हमने वोट बैंक की राजनीति नहीं की
पीएम मोदी ने कहा कि वह गुजरात का मुख्यमंत्री तब भी ऐसा ही छुआछूत का माहौल था ऐसा परसेप्शन बना दिया गया. आज राजनीतिक कैनवास पर लोकतंत्र को लेकर जीने वाला दल है. त्रिपुरा में कम्युनिस्टों का शासन था क्या कभी किसी ने विपक्ष के बारे में सुना था. आज हमारी सरकार है और वहां अब विपक्ष की सुनी जा रही है. विपक्ष की जिम्मेदारी है कि वह जनता का विश्वास जीते लेकिन हमारी जिम्मेदारी है कि हम विपक्ष की आवाज सुनें.  वोटबैंक ने हमारी राजनीति को कुचल देते हैं. हमने वोट बैंक की राजनीति की परवाह नहीं की इसलिए हमने 10 फीसदी आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू कर दिया. हम भारत की महान विरासत को लेकर आगे बढ़ना चाहते हैं और जो ऋषियों  मुनियों ने कामगारों और किसानों ने जो विरासत को छोड़ी है उस पर किसी को भी शर्म आती हो तो आए हमें इसे लेकर आगे बढ़ना है. 

अयोध्या में दिवाली मनाने से किसने रोका था
पीएम मोदी ने परसेप्शन (धारणा) की बात करते हुए पूछा कि अयोध्या में दिवाली मनाने से किसने रोका था?  कुंभ के मेले को लेकर परसेप्शन गढ़ा गया कि नागाओं की जमात है. लेकिन योगी जी की अगुवाई में इस बार कुंभ के गौरव ने  पूरे देश ने देखा है. हम कल्चर की बात करते हैं साथ में 21वीं सदी की भी बात करते हैं.हम दुनिया की तीसरी अर्थव्यवस्था बनने की कोशिश कर रहे हैं. आज हिंदुस्तान के कोने में हमारा वोट बैंक बढ़ रहा है. हमें हिंदी हार्ट लैंड का दल कहा जाता है. लद्दाख, कर्नाटक में हम जीते, उत्तर पूर्व में हम सरकार बना रहे हैं, लेकिन ऐसा परसेप्शन बनाया है कि भारतीय जनता पार्टी हिंदी हार्ट लैंड की पार्टी है. हमें यह भाव करना है कि जो भी सरकारी है वह देश की जनता उसकी मालिक है. 

पीएम मोदी काशी विश्वनाथ में पूजा की

पीएम मोदी का काफिला काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए रवाना हो गया है

पीएम मोदी वाराणसी पहुंच गए हैं.

पीएम मोदी के स्वागत का भव्य इंतजाम

मां से मिले मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को अपनी मां हीराबेन से मिले और उनका आशीर्वाद लिया.  वह गांधीनगर के समीप रायसान गांव में वृंदावन बंगला में अपने छोटे बेटे और प्रधानमंत्री के छोटे भाई पंकज के साथ रहती हैं. प्रधानमंत्री के तौर पर दूसरे कार्यकाल के लिए 30 मई के अपने शपथ ग्रहण समारोह से पहले मोदी यहां पहुंचे और उन्होंने शाम को खानपुर के जेपी चौक इलाके में एक अभिनंदन कार्यक्रम में हिस्सा लिया. मोदी अपनी मां के पास करीब 20 मिनट तक रूके और उन्होंने चरण स्पर्श कर उनका आशीर्वाद लिया.

30 मई को होगा शपथ
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 मई को राष्ट्रपति भवन में नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे. उनके बाद मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी जाएगी. राष्ट्रपति भवन ने रविवार को यह जानकारी दी. राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 मई को शाम 7 बजे राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री एवं मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायेंगे. '' गौरतलब है कि राष्ट्रपति ने शनिवार को भाजपा और एनडी संसदीय दल नेता नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री नामित करते हुए केंद्र में नयी सरकार बनाने का न्यौता दिया था.

इंडिया 9 बजे: चुनाव जीतने के बाद मां से मिलने पहुंचे पीएम मोदी​

टिप्पणियां


अन्य खबरें पढ़ें :

 ममता के गढ़ में BJP ने कैसे लगाई सेंध पीएम मोदी ने गुजरात में बताई वजह
लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की करारी हार पर मुलायम सिंह यादव परिवार में 'तू-तू, मैं-मैं' शुरू



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement