PM मोदी पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा, Oxford की कोरोना वैक्सीन बना रही है कंपनी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को पुणे स्थिति सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) का दौरा करेंगे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी.

PM मोदी पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा, Oxford की कोरोना वैक्सीन बना रही है कंपनी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- फाइल फोटो

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को पुणे स्थिति सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) का दौरा करेंगे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. कोविड-19 के टीके के लिये एसआईआई ने वैश्विक दवा निर्माता एस्ट्राजेनका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी की है.

कोविड ने न्यायिक कार्यों पर असर डाला, लटके मुकदमों के निपटारे के लिए गंभीर प्रयास : सीजेआई

केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन ने पूर्व नैदानिक जांच, परीक्षण और विश्लेषण के लिये सात कंपनियों को कोविड-19 टीके के निर्माण की इजाजत दी है. इनमें से दो एसआईआई और जेन्नोवा बायोफार्मास्यूटिकल्स हैं. पुणे के मंडलायुक्त सौरभ राव ने कहा, “हमें शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया आने की पुष्ट जानकारी प्राप्त हुई है, लेकिन उनके कार्यक्रम का विस्तृत विवरण (मिनट दर मिनट कार्यक्रम) अभी नहीं मिला है.”

राव ने मंगलवार को कहा था कि प्रधानमंत्री के पुणे आने की संभावना है, और अगर ऐसा होगा तो इसका उद्देश्य कोरोना वायरस संक्रमण के टीके के निर्माण की स्थिति, उत्पादन और वितरण के तंत्र की समीक्षा होगा. राव ने यह जानकारी भी दी थी कि चार दिसंबर को 100 से भी ज्यादा देशों के राजदूत और दूत यहां एसआईआई और जेन्नोवा बायोफार्मास्यूटिकल्स का दौरा करेंगे.

ऑक्सफोर्ड की कोविड वैक्सीन 90% तक प्रभावी
ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) की कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड बिना किसी शारीरिक दुष्प्रभाव के 90% तक प्रभावी हो सकती है. ब्राजील और ब्रिटेन में हुए परीक्षणों के आधार पर कंपनी ने 23 नवंबर को यह दावा किया था. भारत में सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute Of India) के साथ एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) की साझेदारी है औऱ कोविशील्ड के टीके का परीक्षण चल रहा है. कंपनी ने कहा, ब्रिटेन, ब्राजील में अंतिम चरण के परीक्षणों के दौरान जिन वालंटियर को कोविशील्ड (Covishield) वैक्सीन की आधी खुराक दी गई, उनमें टीके को 90 फीसदी तक असरदार पाया गया. दूसरी खुराक एक महीने बाद दी गई और औसत स्तर पर टीका 70 फीसदी तक प्रभावी पाया गया है.

Newsbeep

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन अप्रैल में आ सकती है, दो डोज़ की कीमत हो सकती है 1000 रुपये : अदार पूनावाला
भारत में कोरोनावायरस के लिए वैक्सीन बना रही फार्मा कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला (Adaar Poonawala) ने गुरुवार 20 नवंबर को बताया था कि स्वास्थ्य कर्मचारियों और बुजुर्गों के लिए कोविड-19 की ऑक्सफोर्ड वैक्सीन अगले साल अप्रैल तक बाजार में आ सकती है. उन्होंने यह भी बताया कि आम लोगों के लिए वैक्सीन के दो जरूरी डोज़ की कीमत 1,000 रुपये तक हो सकती है. हालांकि, यह आखिरी ट्रायल के नतीजों और नियामक संस्थाओं से मिली मंजूरी पर निर्भर करेगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी का कोविड-19 टीका अधिक आयु के लोगों के लिए ‘उत्साहजनक'
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित कोविड-19 टीका (covid-19 vaccine) 56-69 आयु समूह के लोगों तथा 70 साल से अधिक के बुजुर्गों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में महत्वपूर्ण सुधार करने में कारगर रहा है. इस टीके से संबंधित यह जानकारी बृहस्पतिवार को पत्रिका ‘लैंसेट' में प्रकाशित हुई जिसका विकास भारतीय सीरम संस्थान के साथ मिलकर किया जा रहा है. अध्ययन में 560 स्वस्थ वयस्कों को शामिल किया गया और पाया गया कि ‘सीएचएडीओएक्स 1 एनकोव-19' नाम का यह टीका युवा वयस्कों की तुलना में अधिक आयु समूह के लोगों के लिए अधिक उत्साहजनक है. इसका मतलब है कि यह टीका अधिक आयु समूह के लोगों में कोरोना वायरस के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर सकता है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)