भोपाल से सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में दोबारा मांगी माफी, कहा- मैंने गोडसे को देशभक्त नहीं कहा

गोडसे पर दिए गए बयान के मामले में भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर लोकसभा में माफी मांगी है.

खास बातें

  • प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में दोबारा माफी मांगी
  • कहा- मैंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा
  • प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर संसद में हंगामा
नई दिल्ली:

गोडसे पर दिए गए बयान के मामले में भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर लोकसभा में माफी मांगी है. अपना बयान पढ़ते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि उन्होंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा है लेकिन अगर फिर भी किसी को ठेस पहुंची है तो वह माफी मांगती हैं.  इससे पहले प्रज्ञा ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे गोडसे को देशभक्त बताने वाले अपने बयान पर लोकसभा में सफाई दी और कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया. प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि मेरे बयान को गलत ढंग से प्रस्तुत किया गया. मैं महात्मा गांधी का सम्मान करती हूं. इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी पर भी निशाना साधा और कहा कि मुझे अदालत ने दोषी करार नहीं दिया है, लेकिन मुझे खुलेआम आतंकवादी कहा गया. यह कानूनन अपराध है और एक महिला के नाते मेरी गरिमा का अपमान है और बीजेपी सांसद ने राहुल गांधी विशेषाधिकारी हनन का भी शिकायत भी की है.    वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि वह लोकसभा में विवादित बयान देने वाली भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह को 'आतंकवादी' बताने वाली अपनी टिप्पणी पर कायम हैं. उन्होंने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, गोडसे भी हिंसा का प्रयोग करता था और यह (प्रज्ञा) भी हिंसा का प्रयोग करती हैं.' यह पूछे जाने पर क्या वह प्रज्ञा को 'आतंकवादी' बताने वाली टिप्पणी पर कायम हैं तो गांधी ने कहा, 'हां! जो मैंने ट्वीट पर लिखा है, उस पर कायम हूं.'

उन्होंने यह भी कहा, 'प्रज्ञा ने वही कहा है जिसमें वह विश्वास करती हैं.'गौरतलब है कि प्रज्ञा के लोकसभा में दिए गए विवादित बयान को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को ट्वीट किया था, 'आतंकवादी प्रज्ञा ने आतंकवादी गोडसे को देशभक्त बताया. यह भारत के संसद के इतिहास का एक दुखद दिन है.' प्रज्ञा के बयान पर शुक्रवार को लोकसभा में हंगामे के दौरान बीजेपी के निशिकांत दुबे ने कहा कि राहुल गांधी ने प्रज्ञा को 'आतंकी' कहा था अत: कांग्रेस को भी इस मामले में माफी मांगनी चाहिए. गौरतलब है कि प्रज्ञा ने बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान उस वक्त विवादित टिप्पणी की थी जब द्रमुक सदस्य ए राजा बोल रहे थे.  प्रज्ञा की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं किया गया था. (इनपुट भाषा से भी)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com